लखनऊ. यूपी पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) का बिगुल बज चुका है. इस समय पहले चरण के नामांकन (Nomination) के बाद दूसरे चरण की प्रक्रिया जारी है. इसके तहत 7 अप्रैल यानी बुधवार से लखनऊ समेत 20 जिलों में ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत सदस्य के पदों के लिए नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. जबकि गुरुवार यानी 8 अप्रैल नामांकन करने का आखिरी दिन है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के लिए उम्‍मीदवार सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक न सिर्फ नामांकन पत्र खरीद सकेंगे बल्कि अपना परचा भर सकेंगे. इसके बाद 9 अप्रैल और 10 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी. सुबह 8 बजे से कार्य की समाप्ति तक नामांकन पत्रों को जांचा जाएगा.

11 अप्रैल को ले सकेंगे नामांकन वापस

यूपी पंचायत चुनाव के दूसरे चरण की प्रक्रिया के तहत 11 अप्रैल को नामांकन वापस लेने का प्रत्याशियों को समय मिलेगा. सुबह 8 बजे से दोपहर 3 बजे तक प्रत्याशी अपना नामांकन वापस ले सकेंगे. इसके बाद 11 अप्रैल को ही दोपहर 3 बजे के बाद से कार्य समाप्त होने तक प्रतीक चिन्हों का आवंटन किया जाएगा. बता दें कि दूसरे चरण का मतदान 19 अप्रैल सुबह 7 बजे से शुरू होकर शाम 6 बजे तक चलेगा. इसके बाद यूपी पंचायत चुनाव के 2 मई को नतीजे आएंगे.ये हैं दूसरे चरण वाले 20 जिले

बता दें दूसरे चरण में 20 जिलों में मतदान होना है, जिनमें मुजफ्फरनगर, बागपत, गौतमबुद्ध नगर, बिजनौर, अमरोहा, बदायूं, एटा, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा, ललितपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, लखनऊ, लखीमपुर खीरी, सुल्तानपुर, गोंडा, महाराजगंज, वाराणसी और आजमगढ़ जिले शामिल हैं.

कोरोना प्रोटोकॉल को फॉलो करना जरूरी

उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को बेहतर तरीके से संपन्न कराने के लिए दिशा-निर्देश जारी कर रखे हैं. कानून व्यवस्था के दृष्टिगत भी सारे इंतजाम बेहतर किये जा रहे हैं. इसके साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए भी नामांकन भरे जाने वाली जगह पर कोविड-19 प्रोटोकॉल को फॉलो कराने की अनिवार्यता को लागू कर दिया गया है.

यूपी निर्वाचन आयोग के अपर निर्वाचन आयुक्त वेद प्रकाश वर्मा ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि नामांकन के लिए विकास खण्ड मुख्यालय आने वाले उम्मीदवारों के समर्थकों की भीड़ को नामांकन स्थल से दो सौ मीटर दूर ही रोक दिया जाए. साथ ही कहा है कि नामांकन स्थल पर उम्मीदवार, उसके चुनाव अभिकर्ता, प्रस्तावक और मदद के लिए एक अन्य व्यक्ति को ही आने की अनुमति दी जाए.

अगर कोई कोविड संक्रमित रोगी या उसके साथ रह रहा व्यक्ति चुनाव लड़ना चाहता है तो वह अपना नामांकन पत्र अपने प्रस्तावक या किसी अन्य प्राधिकृत व्यक्ति द्वारा रिटर्निंग ऑफिसर को प्रस्तुत कर सकता है. साफ है कि चुनाव लड़ने वाला व्‍यक्ति व्यक्ति रिटर्निंग ऑफिसर के समक्ष खुद नहीं आएंगे. इसके अलावा संवेदनशील इलाकों में कानून व्यवस्था के मद्देनजर अधिक एहतियात बरतने के निर्देश दे दिए गए हैं. खासकर यूपी की सीमा से लगे जिलों में पुलिस के जवानों के साथ ही दूसरी सुरक्षा एजेंसियों को भी सतर्क कर दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here