29 C
Mumbai
Saturday, November 27, 2021

26/11 का विरोध शब्‍दों से करने वाली संस्‍था श्रुति संवाद साहित्य कला अकादमी, ‘शब्‍द युद्ध:आतंक के विरूद्ध’ आंदोलन

मुंबई में 2008 में हुए बम धमाके को 26/11 के नाम आज भी पूरी दुनिया एक कसक के साथ  याद करती है । उसकी कटु यादें, आज भी मुंबई वासियों के जेहन में जिंदा हैं । इस घटना का, हर स्‍तर पर विश्‍वव्‍यापी विरोध हुआ ।  सबने अपने-अपने ढंग से इसकी भर्त्‍सना की ।

लेकिन मुंबई की एक संस्‍था है-श्रुति संवाद साहित्‍य कला अकादमी 2008 से  अलग तरीके से  घटना का विरोध करती आ रही है । संस्‍था ने अपना उद्देश्‍य ही बना रखा है-‘शब्‍द युद्ध:आतंक के विरूद्ध’ । अक्षरों-शब्‍दों के माध्‍यम से वे इस घटना का अलग तरीके से हर वर्ष विरोध करती है ।

देश की जानी-पहचानी साहित्यिक-सामाजिक और सांस्‍कृतिक संस्‍था ‘श्रुति संवाद’ के अध्‍यक्ष हैं वरिष्‍ठ गीतकार अरविंद राही, महासचिव हैं प्रसिद्ध व्‍यंग्‍यकार, मंच संचालक डॉ. अनंत श्रीमाली ।  कोषाध्‍यक्ष थे—राजीव सारस्‍वत । जो हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम कार्पो.लि., मुंबई में राजभाषा अधिकारी के पद पर कार्यरत थे ।  26/11 को उनके संस्‍थान में संसदीय समिति का दौरा था जिसकी  बैठक ताज होटल में थी । वहीं पर राजीव सारस्‍वत की सरकारी ड्युटी  थी ।  उसी दिन ताज होटल में आतंकी हमला हो गया । राजीव जी ने अपनी जान की परवाह न कर सभी सांसदों को सुरक्षित बाहर निकलवाने में भरसक प्रयास किए और बाद में स्‍वयं को एक कमरे में बंद कर लिया लेकिन दुर्भाग्‍य से  वे आतंकवादियों की गोली के शिकार होकर शहीद हो  गए ।

बस, उस दिन से ‘श्रुति संवाद’ ने अद्भुत आंदोलन का निर्णय लिया कि  आतंकवाद का विरोध अक्षरों, शब्‍दों, कविताओं के माध्‍यम से करेंगे ।  राष्‍ट्रीय स्‍तर पर एक पुरस्‍कार स्‍थापित किया-राजीव सारस्‍वत सम्‍मान । इसमें अब तक पद्मश्री डॉ. अशोक चक्रधर(दिल्‍ली), जगदीश सोलंकी(कोटा), वेदव्रत बाजपेयी (लखनऊ), डॉ. रामजी तिवारी (सुलतानपुर), माया गोविंद (मुंबई), कुंअर बेचैन (गाजियाबाद), बुद्धिनाथ मिश्र (देहरादून), माणिक वर्मा (भोपाल), सोम ठाकुर (आगरा), दुर्गादान सिंह गौड़ (जयपुर), माहेश्‍वर तिवारी (मुरादाबाद) आदि वरिष्‍ठ कवियों, गीतकारों को ये सम्‍मान दिया जा चुका है ।

इस वर्ष यह सम्‍मान मराठी के प्रसिद्ध लेखक (भारतीय प्रशासनिक सेवा के सेवानिवृत्त वरिष्‍ठ अधिकारी) विश्‍वास पाटील और ख्‍यातिप्राप्‍त शायर हस्‍तीमल हस्‍ती को  महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल माननीय भगतसिंह कोश्‍यारी के हस्‍ते राजभवन में  दिया गया । इस सम्‍मान के समय राष्‍ट्रीय स्‍तर के होने वाले कवि सम्‍मेलन में संस्‍था का आग्रह रहा कि आतंकवाद पर, उसके विरोध में रचनाएं अवश्‍य पढ़ी जाएं ।

राजीव सारस्‍वत की शहादत ने इस आंदोलन का विस्‍तार किया और राजीव सारस्‍वत व्‍यंग्‍य पुरस्‍कार भी शुरू किया जो अब तक घनश्‍याम अग्रवाल (अकोला), सुभाष काबरा, आसकरण अटल , संजीव निगम, डॉ. वागीश सारस्‍वत को प्रदान किया ।
चूंकि राजीव सारस्‍वत राजभाषा अधिकारी थे तो एक और नये सम्‍मान -राजीव सारस्‍वत राजभाषा सम्‍मान की शुरूआत हुई जो पुष्‍प जोशी, निदेशक(मानव संसाधन), हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम, उमाकांत प्रसाद सिंह कार्यकारी  निदेशक (इंडियन ऑयल कार्पो.) प्रदीप अग्रवाल, अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक (भारतीय कपास निगम) आदि को दिया जा चुका है । इस वर्ष कोरोना वारियर्स के रूप में हिंदू सभा हास्पिटल के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. रजनीकांत मिश्र और मेट्रन लता सायमन को राज्‍यपाल श्री भगतसिंह कोश्‍यारी ने सम्‍मानित किया ।

संस्‍था और स्‍थानीय प्रशासन के प्रयासों से राजीव सारस्‍वत के निवास मिलेनियम टावर्स(सानपाड़ा)  के सामने  चौक को शहीद राजीव सारस्‍वत चौक  नाम दिया गया । ताज होटल में भी इस जघन्‍य कांड में जो शहीद हुए उनके नाम रिसेप्‍शन के सामने शिलालेख पर हैं जिसमें राजीव सारस्‍वत का नाम भी है ।
लोकसभा की कार्रवाई में भी इस घटना के साथ राजीव सारस्‍वत का नाम दर्ज है । तत्‍कालीन लोकसभा अध्‍यक्ष सोमनाथ चटर्जी ने चैक और एक मार्मिक पत्र सारस्‍वत परिवार को भेजा लेकिन उनकी पत्‍नी सुनीता सारस्‍वत ने राशि नहीं ली । हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम की तरफ से भी कुछ प्रस्‍ताव उनके परिवार को दिए गए पर उन्‍होंने विनम्रता से इनकार कर दिया । उनके परिवार में दो बेटियां काव्‍या और सौम्‍या, जिनका विवाह हो चुका है । सारस्‍वत परिवार और  ससुराल पक्ष का सत्‍पथी परिवार भी इस  आंदोलन से जुड़ा है।

इस कार्यक्रम के अलावा ‘श्रुति संवाद’ अन्‍य कई कार्यक्रम भी समय-समय पर करती हैं जिनमें वरिष्‍ठ साहित्‍यकार आलोक भट्टाचार्य, व्‍यंग्‍यकार यज्ञ शर्मा, के पी सक्‍सेना (लखनऊ) आदि पर प्रेस क्‍लब, मुंबई में गरिमामय कार्यक्रम किए गये । ‘व्‍यंग्‍ययात्रा’ के संपादक प्रेम जनमेजय (दिल्‍ली), अनिल जोशी (आगरा), उपाध्‍यक्ष-केंद्रीय हिंदी संस्‍थान, व्‍यंग्‍यकार हरि जोशी (भोपाल)  के सानिध्‍य में कार्यक्रम हुए।पत्रकार ओमप्रकाश तिवारी की पुस्‍तकों पर चर्चा जैसे कई कार्यक्रम संस्‍था   समय-समय पर करती रहती है ।

संस्‍था केवल साहित्यिक, सांस्‍कृतिक कार्यक्रम ही नहीं करती बल्कि समाज सेवा में भी अग्रणी है । पिछले वर्ष कोरोना के कारण कई लेखक, पत्रकार, कवियों के समक्ष आर्थिक संकट आया ।  उनके नामों को गुप्‍त‍ रखते हुए देश भर से ऐसे कवियों, लेखकों, पत्रकारों और कुछ पत्रिकाओं को भी आर्थिक सहायता प्रदान की गई ।

इस संस्‍था के  हमेशा सारथी बनते हैं-रामविचार यादव, संजय बंसल, अनुपम तिवारी, सुरूचि मोहता, निलेश निकालजे, आलोक श्रीवास्‍तव, एचएन त्रिपाठी, रमेश शर्मा, लक्ष्‍मी शर्मा, ऋतेंद्र माथुर, सुधीर शर्मा, रविदत्‍त गौड़, नीता-संगीता बाजपेयी, आर.के. गुप्‍ता, सुरेश शर्मा, डॉ मेघा, अशोक कन्नोजिया, सलीम खान आदि जिनके कारण यह अनुष्‍ठान सफल हो रहा है ।

बहुत सीमित साधनों में संचालित यह संस्‍था, अन्‍य संस्‍थाओं से हटकर अनवरत एक अनूठा साहित्यिक यज्ञ करती रहती है ।

Related Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

राकंपा महिला आघाडी सम्मेलन संपन्न

कइयों की हुई नियुक्ति मुंबई। प्रदेश महासचिव व पनवेल जिला निरिक्षक भावनाताई घाणेकर की निर्देश व मार्गदर्शन में नई...

फिल्म ‘बेगुनाह’ का पोस्ट प्रोडक्शन का काम जोरो पर

स्कामखी एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी भोजपुरी फ़िल्म बेगुनाह का पोस्ट प्रोडक्शन का काम तेजी से चल रहा है और बहुत जल्द...