29 C
Mumbai
Wednesday, September 22, 2021

आंसू एजेंसी ने एचपीसीएल को लगाया दो करोड़ का चुना

मैनेजर से मालकिन बनी केतकी का भंडाफोड़

मुंबई। एक आनार सौ बीमार वाली कहावत को आंसू गैस एजेंसी कि कथित मालकिन केतकी देसाई ने चरितार्थ कर दिया है। इस एजेंसी के असली मालिक वस. शांतनु कुमार अशर थे। उन्होंने केतकी देसाई को बतौर मैनेजर रखा था। मालिक से करीब होने के कारण उनकी मौत के बाद श्रीमती देसाई ने शाम-दाम -दंड -भेद का प्रयोग कर इस एजेंसी को हथियाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। विभिन्न मामलों में आरोपी रहीं केतकी देसाई ने एचपीसीएल के रीफिलिंग प्लांट के अधिकारियों पर भी ऐसा जादू चलाया की वे सभी नियमों को ताक पर रख कर उन्हें इस एजेंसी का मालकीन बना दिया। जबकि इस एजेंसी पर एचपी का करीब पैने दो (1. 75 )करोड़ रूपये का बकाया है।

गौरतलब है कि शंतानु कुमार अशर की मौत 17 अक्टूबर 2020 में हुई थी। लेकिन उन्होंने अपनी मौत से पूर्व एजेंसी के लेटर पैड पर लिखित विभागीय समस्याओं को सुलझाने के लिए अजाद खान चुना था। एचपीसीएल मुंबई को केतकी देसाई ने भ्रमीत कर करीब दो करोड़ का चूना लगाया है। इसके अलावा अपराधिक मामलों में लिप्त केतकी देसाई को एचपी द्वारा कैसे एजेंसी दी गई? इस कड़ी में दिलचस्प बात यह है कि आंसू गैस एजेंसी के मालिक शांतनु कुमार अशर की मैनेजर केतकी देसाई पर अदालत में भी अपराधिक मामलों की सुनवाई चल रही है। इसके बावजूद एचपीसीएल मुंबई के अधिकारियों ने देसाई पर इतना मेहबान क्यों हैं।

इस बात का भंडाफोड़ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरीय मुंबई हाई कोर्ट के मानींद अधिवक्ता फैज़ल शेख और शिकायतकर्ता आजाद खान ने किया है।
ओशिवरा के 68 पीडीएच स्टुडियो में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एड. फैज़ल शेख ने केतकी देसाई पर अदालत के गाइड लाइन रिकानस्टीटयूशन के रूल 3. 13. 2 का उलंघन करने का आरोप भी लगाया है। उन्होंने कहा है कि नियमानुसार आंसू गैस एजेसी मुंबई के मालिक शांतनु कुमार अशर का देहांत 2020 में होने के बाद इस एजेंसी को बंद कर देना चाहिए था।

इसके बाद फिर से एचपीसीएल निविदा निकालती, उसके बाद आवेदन आमंत्रित होते, फिर जो व्यवित ओएमसीजी और एचपीसीएल के नियमों पर खरा उतरता उसे एजेंसी दी जाती। लेकिन इन सभी प्रक्रियाओं को ताक पर रख कर वाशीनाका के एल यु गड़करी मार्ग पर स्थित एचपी के रिफिलिंग प्लांट के अधिकारियों ने देशी नियम (ले-दे- कर) अपना लिया और केतकी देसाई को बंद होने वाली कंपनी का मालकीन बना दिया। जो नियमों के विरूद्ध है। ऐसे में उन सभी अधिकारियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए, जिन्होंने चंद सिक्कों की खातीर नियमों को ताक पर रख कर इस काम को अंजाम दिया है।

उन्होंने कहा कि एचपी के अधिकारियों ने लाइसेंस निरस्त करने की नोटिस पर भी ध्यान ही नहीं दिया। इसके अलावा बिना सहमति के पार्टनरशिप एग्रीमेंट कैसे माना गया? केतकी देसाई के डबल पेन कार्ड संबंधित डॉक्योमेंट की भी जांच नहीं की गई। एचपीसीएल मुंबई के अधिकारियों ने केतकी देसाई को एजेंसी देने के लिए कानून की परवाह नहीं की और फिर्यादी की सारी शिकायतों को कचरे के डिब्बे डाल दिया।

Related Articles

खेसारी लाल यादव की बापजी से आएगा रोमेंटिक सांग ‘लव वाला डोज़’

वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स भोजपुरी के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल से सुपरस्टार खेसारी लाल यादव और ऋतु सिंह अभिनीत भोजपुरी फिल्म ‘बाप जी’ का सबसे...

पीठ में छुरा घोंपने वाले शिवसैनिकों के ‘गुरु’ नहीं हो सकते : अनंत गीते 

मुंबई। शिवसेना नेता अनंत गीते ने शरद पवार पर हमला बोलते हुए कहा कि जिन्होंने अपनी पार्टी बनाने के लिए कांग्रेस की...

मां-बाप से ज्यादा दुनिया में कुछ भी नहीं : अखिलेश सिंह

मुंबई। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पुलिस निरीक्षक अखिलेश सिंह ने कहा है कि आज मैं कपिल शर्मा का एक शो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

खेसारी लाल यादव की बापजी से आएगा रोमेंटिक सांग ‘लव वाला डोज़’

वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स भोजपुरी के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल से सुपरस्टार खेसारी लाल यादव और ऋतु सिंह अभिनीत भोजपुरी फिल्म ‘बाप जी’ का सबसे...

पीठ में छुरा घोंपने वाले शिवसैनिकों के ‘गुरु’ नहीं हो सकते : अनंत गीते 

मुंबई। शिवसेना नेता अनंत गीते ने शरद पवार पर हमला बोलते हुए कहा कि जिन्होंने अपनी पार्टी बनाने के लिए कांग्रेस की...

मां-बाप से ज्यादा दुनिया में कुछ भी नहीं : अखिलेश सिंह

मुंबई। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पुलिस निरीक्षक अखिलेश सिंह ने कहा है कि आज मैं कपिल शर्मा का एक शो...

इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों ने किया हिंदी काव्य पाठ

मुंबई।  वसई के विद्यावर्धिनी कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलोजी के लिटरेरी क्लब ने हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में कवि सम्मेलन का ऑनलाइन...

पवई के विद्यार्थियों के फीस का मसला हुआ हल

आरपी आई की तरफ से पवई इंग्लिश स्कूल को दिए गए 5 लाख की आर्थिक मदद मुंबई। कोरोना महामारी...