28 C
Mumbai
Thursday, June 24, 2021

आख‍िर क्‍यों छोड़ा कांग्रेस का ‘हाथ’? ज‍ित‍िन प्रसाद ने बताया बीजेपी में शाम‍िल होने का कारण

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और युवा कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद ने बुधवार को भाजपा का दामन थाम लिया. तीन दशक तक उनका पर‍िवार कांग्रेस से जुड़ा रहा और उन्‍होंने बीजेपी में शाम‍िल होते हुए खुद बताया क‍ि आख‍िर उन्‍होंने कांग्रेस क्‍यों छोड़ी? उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले जितिन प्रसाद के पार्टी छोड़ने को कांग्रेस के लिए इसे एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है. आपको बता दें क‍ि जितिन प्रसाद उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने पिछले साल कांग्रेस में सक्रिय नेतृत्व और संगठनात्मक चुनाव की मांग को लेकर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी.

ज‍ित‍िन प्रसाद ने बताया क‍ि बीजेपी में शाम‍िल होने का फैसला बहुत सोच समझकर ल‍िया है. ज‍िस दल (कांग्रेस) में था वह मुझे महसूस होने लगा क‍ि हम लोग राजनीति करने लगे हैं. राजनीत‍िक एक माध्‍यम या दल एक माध्‍यम है लेक‍िन जब आप अपने लोगों के हितों की रक्षा नहीं कर सकते. अगर उनके ल‍िए काम नहीं कर पाते हैं तो आपका उस दल में और राजनीत‍ि में रहने का क्‍या मकसद?

यहीं मेरे मन में आया क‍ि आप चाहे देश में हो, राज्‍य में हो या ज‍िले में हो अगर आप अपने लोगों का काम नहीं आ सकते, उनकी सहायता नहीं कर सकते हो तो फि‍र क्‍या फायदा. यहीं बात मुझे महसूस होने लगा था क‍ि मैं वह काम कांग्रेस पार्टी में नहीं कर पा रहा हूं.

उन्होंने कहा क‍ि अब मैं बीजेपी में शाम‍िल हो गया हूं जो इतना मजबूत संगठन है और मैं उसकी जर‍िए अब समाज सेवा करूंगा. अंत में उन्‍होंने कहा क‍ि मैं ज्यादा बोलना नहीं चाहता हूं और अब मेरा काम बोलेगा. मैं बीजेपी कार्यकर्ता के रूप में सबका साथ, सबका विश्वास और एक भारत, श्रेष्ठ भारत के लिए काम करूंगा.

ज‍ित‍िन प्रसाद ने कहा क‍ि राजनीतिक जीवन का एक नया अध्‍याय शुरू हो रहा है. मेरा कांग्रेस पार्टी से र‍िश्‍ता तीन पीढ़‍ियों से रहा है. बहुत व‍िचार और मंथन के बाद यह फैसला ल‍िया है. आज सवाल यह नहीं है क‍ि मैं क‍िस पार्टी को छोड़कर आ रहा हूं. सवाल यह है क‍ि क‍िस दल में जा रहा हूं और क्‍यों जा रहा हूं? प‍िछले कुछ वर्षों से देश और व‍िदेश में भ्रमण करके यह महसूस क‍िया है क‍ि आज देश में असली मायने में कोई राजनीति दल है, वो भारतीय जनता पार्टी है.

बाकी दल तो व्‍यक्‍त‍ि व‍िशेष और क्षेत्र‍िय दल बनकर रहे गए हैं. उन्‍होंने कहा क‍ि देश जिस चुनौत‍ियों का सामना व‍िदेश और सीमाओं पर कर रहा है. उसके ल‍िए आज अगर कोई दल और नेता सबसे मजबूती के साथ खड़ा है तो वह बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं. उन्‍होंने कहा क‍ि प्रधानमंत्री नए भारत का न‍िर्माण कर रहे हैं और अब उसमें एक छोटा सा योगदान मुझे भी करने को म‍िलेगा. यह योगदान भारत के प्रत‍ि और आने वाले पीढ़ि‍यों के प्रति होगा.

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और भाजपा सांसद अनिल बलूनी की मौजूदगी में प्रसाद ने यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. बलूनी ने इस अवसर पर कहा क‍ि भाजपा की नीति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व से प्रभावित होकर जितिन प्रसाद भाजपा परिवार में शामिल हुए हैं. हम उनका स्वागत करते हैं. भाजपा में शामिल होने से पहले प्रसाद ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की.

Related Articles

कोरोना को केवल मुंबई ही नही बल्कि पूरे देश से जाना होगा : भाजपा नेता अमरजीत मिश्र

मुंबई। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी जिस साहस और मनोबल से कोरोना कोविड--19 की महामारी का मुकाबला कर रहे हैं उसकी...

राजावाडी अस्पताल में भर्ती मरीज को चूहों ने काटा

महापौर ने किया अस्पताल का दौरा मुंबई। मुंबई के प्रसिद्ध राजावाडी अस्पताल में भर्ती एक मरीज को रात में...

गोवंडी से 10 मुस्लिम अपराधी किए गए तड़ीपार

जनता में खुशी का माहौल मुंबई। शिवाजी नगर पुलिस की हद में बढ़ते अपराध को रोकने के लिए...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

कोरोना को केवल मुंबई ही नही बल्कि पूरे देश से जाना होगा : भाजपा नेता अमरजीत मिश्र

मुंबई। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी जिस साहस और मनोबल से कोरोना कोविड--19 की महामारी का मुकाबला कर रहे हैं उसकी...

राजावाडी अस्पताल में भर्ती मरीज को चूहों ने काटा

महापौर ने किया अस्पताल का दौरा मुंबई। मुंबई के प्रसिद्ध राजावाडी अस्पताल में भर्ती एक मरीज को रात में...

गोवंडी से 10 मुस्लिम अपराधी किए गए तड़ीपार

जनता में खुशी का माहौल मुंबई। शिवाजी नगर पुलिस की हद में बढ़ते अपराध को रोकने के लिए...

वर्षा ऋतु में वर्षा तिवारी ‘बिजुरी ‘के पहल पर मप्र के पटल पर हुआ 51 कलमकारगणो का रस बरसात

भोपाल। इतनी विकट परिस्थितियों में भी तन मन और धन से साहित्य की सेवा करने वाली साहित्यिक हिन्दी मासिक पत्रिका सामयिक परिवेश...