30 C
Mumbai
Wednesday, January 19, 2022

ब्लैक फंगस के इलाज का डॉक्टरों निकाला नया तरीका, सस्ता होगा इलाज

नई दिल्ली। देश में एक महामारी के संक्रमण की रफ्तार भले ही धीमी हो गई हो लेकिन दूसरी महामारी यानी ब्लैक फंगस का खतरा अभी भी बना हुआ है। देश के कई राज्यों में ब्लैक फंगस के मामले सामने आ रहे हैं और यहां चिंताजनक बात यह है कि कोविड से ठीक होने के बाद ब्लैक फंगस का संक्रमण फैल रहा है।

ऐसे में मरीज पहले कोरोना के इलाज पर पैसे खर्च करता है और बाद में ब्लैक फंगस के इलाज के लिए भारी भुगतान करना होता है। बता दें कि ब्लैक फंगस के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले एंटी फंगल इंजेक्शन का खर्च बहुत महंगा है। इसके इलाज के लिए एक दिन का खर्च कम से कम 35000 रुपये के आसपास बैठता है,ऐसे में ब्लैक फंगस वित्तीय मोर्चे पर भी लोगों के लिए परेशानी है।

हालांकि देश के कुछ डॉक्टर ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए एक राहत की खबर लेकर आए हैं। डॉक्टरों ने ब्लैक फंगस के इलाज का कुछ ऐसा तरीका निकाला है, जिससे इसका खर्च 100 गुना तक सस्ता हो सकता है, यानी कि एक दिन में लगने वाले 35,000 रुपये का खर्च 350 रुपये तक आ सकता है।

डॉक्टरों ने इलाज का जो तरीका निकाला है, उसमें सावधानी से मरीज के ब्लड क्रिएटिनिन लेवल की निगरानी करनी है, जिसके बाद खर्चा काफी कम हो जाएगा। ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन का नाम एम्फोटेरेसिन है। ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस इंजेक्शन की कमी बाजार में देखने को मिल रही है। ऐसे में डॉक्टर दूसरे तरीके से इलाज करने की तैयारी में हैं।

कंवेशनल एम्फोटेरेसिन और सर्जरी के बाद ठीक हुए 85 फीसदी मरीज डॉक्टरों का कहना है कि इस तरीके के तहत जरूरी है कि दूसरे दिन मरीज का ब्लड टेस्ट हो। पुणे बीजे मेडिकल कॉलेज के ईएनटी हेड समीर जोशी का कहना है कि कोरोना के बाद ब्लैक फंगस से पीड़ित 201 मरीजों का इलाज किया है। इनमें से 85 फीसदी मरीज कंवेशनल एम्फोटेरेसिन और सर्जरी के बाद ठीक हुए हैं।

समीर जोशी का कहना है कि उन्होंने कंवेशनल एम्फोटेरेसिन तरीके से 65 मरीजों का इलाज किया है, जिसमें से 63 मरीज ठीक हुए हैं। उन्होंने कहा सामान्य तौर पर सर्जरी और कंवेशनल एम्फोटेरेसिन एक साथ काम करते हैं।

Related Articles

बाइक चोर का आरोपी निकला मोबाइल चोर

रवि निषाद/मुंबई। पंतनगर पुलिस की हद से चोरी हुए एक पल्सर 220 बाइक के आरोपी को पुलिस ने करीब एक साल बाद...

घाटकोपर के फुटपाथ हुए फेरी वालो के कब्जे में

बिना परवाना धड़ल्ले से चल रहे अवैध धंधे मुंबई। मनपा एन विभाग का फेरीवालों का उड़नदस्ता मतलब चोर गाडी...

राजस्थान के इस सरकारी अस्पताल में नवजातों और प्रसूताओं पर दौड़ते हैं चूहे, काट लेते हैं अंगुली

Sirohi latest news: कोरोना महामारी के बीच सिरोही के जनाना अस्पताल (Janana Hospital) में चूहों ने आतंक मचा रखा है. जनाना अस्पताल के प्रसूती वार्ड में इन चूहों को प्रसूताओं और नवजातों के ऊपर दौड़ते हुये देखा जा सकता है. कोरोना प्रोटोकॉल की पालना का दावा करने वाले इस अस्पताल में अव्यवस्थाओं का ऐसा आलम है कि यहां आने वाला मरीज यहां ठीक होने की बजाय और बीमार हो जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

बाइक चोर का आरोपी निकला मोबाइल चोर

रवि निषाद/मुंबई। पंतनगर पुलिस की हद से चोरी हुए एक पल्सर 220 बाइक के आरोपी को पुलिस ने करीब एक साल बाद...

घाटकोपर के फुटपाथ हुए फेरी वालो के कब्जे में

बिना परवाना धड़ल्ले से चल रहे अवैध धंधे मुंबई। मनपा एन विभाग का फेरीवालों का उड़नदस्ता मतलब चोर गाडी...

राजस्थान के इस सरकारी अस्पताल में नवजातों और प्रसूताओं पर दौड़ते हैं चूहे, काट लेते हैं अंगुली

Sirohi latest news: कोरोना महामारी के बीच सिरोही के जनाना अस्पताल (Janana Hospital) में चूहों ने आतंक मचा रखा है. जनाना अस्पताल के प्रसूती वार्ड में इन चूहों को प्रसूताओं और नवजातों के ऊपर दौड़ते हुये देखा जा सकता है. कोरोना प्रोटोकॉल की पालना का दावा करने वाले इस अस्पताल में अव्यवस्थाओं का ऐसा आलम है कि यहां आने वाला मरीज यहां ठीक होने की बजाय और बीमार हो जाता है.

शेयर बाजार में आपकी हेल्प के लिए SEBI ने उतारा अपना सारथी, यूं आएगा आपके काम

Saarthi Mobile App: SEBI ने निवेशकों को शिक्षा देने वाला एक मोबाइल ऐप सारथी (Saa₹thi) लॉन्च किया. यह ऐप युवा निवेशकों को ऐसी-ऐसी जानकारियां देगा, जिससे कि शेयर बाजार में आपका सफर आसान हो जाएगा.

क्या वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह पर जीवन ढूंढ़ लिया? क्यूरोसिटी को मिले कॉर्बन के संकेत

Scientists find carbon on Red Planet: वैज्ञानिकों ने कहा कि हो सकता है कि बारिश के चलते ये कण सतह पर गिरे और फिर सतह के अंदर मंगल ग्रह की चट्टानों में लंबे समय के लिए सुरक्षित हो गए हों. हालांकि एक और दलील में कहा गया है कि मंगल ग्रह पर मिले कॉर्बन सिग्नेचर अल्ट्रावॉयलेट किरणों और कॉर्बन डाई ऑक्साइड के संपर्क में आने का परिणाम हो सकते हैं, जिसने मंगल ग्रह के वायुमंडल में कॉर्बन पैदा किया हो और फिर ये कण मंगल ग्रह की सतह पर जम गए हों.