26.3 C
Mumbai
Sunday, September 19, 2021

लालू के नीतीश से भले 'मंडल' के मेल बा, लेकिन मन से मन के मेल नइखे!

बीपी मंडल के जयंती पs कार्जक्रम रहे। देवकी नंदन पुष्पांजलि अरपित कs के निकले लगले तs अनुपम आनंद से भेंट हो गइल। दूनो जना बहरी निकलले तs अनुपम आनंद कहले, बीपी मंडल जी आरक्षण के अलख जगवले। आरक्षण आंदोलन से ही लालू जी अउर नीतीश जी के राजनीत के धार मिलल। लेकिन, लालू-नीतीश के अलगाव के चलते बिहार में पिछड़ा राजनीत बिभाजित हो गइल। जब अति पिछड़ा समुदाय नीतीश जी के साथे आ गइल तs लालू जी राजनीतिक किला ढह गइल। जातीय जनगणना के मुद्दा पर जदयू-राजद में वैचारिक एकता के मौका मिलल रहे। लेकिन राजद के कुछ नेता ई बेसकीमती मौका के ठोकर मार रहल बाड़े। परधानमंतरी से मीटिंग के बाद नीतीश जी जातीय जनगणना के नैरेटिभे चेंज कर देले। अब राजद बिरोध के झुनझुना भी ना बजा सके। अइसना में नीतीश जी के टारगेट कइल राजद के कहीं भारी मत पड़ जाए।

राजद के बेयान के मतलब का बा ?

देवकी नंदन पूछले, तहरा कहे का मतलब बा ? तs अनुपम आनंद जबाब देले, तेजस्वी भी नीतीश जी साथे परधानमंतरी से मिले खातिर दिल्ली गइले। ई बहुत खास बात रहे। लेकिन अब राजद के नेता एगो फोटो के आधार पs नीतीश जी के खिलाफ बेयान दे रहल बाड़े। अब बतावs कि नीतीश जी जइसन अनुभवी नेता के तेजस्वी जइसन नवका नेता राजनीत के पाठ पढ़इहें ? ई केतना हंसे जुकुर बात बा। ई बात सुन के देवकी नंदन कहले, राजद अउर जदयू के राजनीतिक आधार (पिछड़वाद) भले एकसमान बा लेकिन बैचारिक आधार में जमीन-आसमान के अंतर बा। 2015 में लालू जी कहले रहन कि ऊ जहर के घोंट पी के नीतीश कुमार के नेता मनले रहन। इहे बिचार राजद के कबो जदयू से एक ना होखे देवे। जातीय जनगणना के मुद्दा पs जब सब कुछ ठीकठाक चलत रहे कि राजद नीतीश जी के बारे में ‘रीढ़ के हड्डी’ वला बेयान दे देलस। एकर का जरूरत रहे ? ई तs बनल कम बिगड़े वला बत हो गइल। अइसना में कबो नीतीश जी राजद पs भरोसा कर सकेले ?

‘रीढ़ के हड्डी’ अउर राजनीतिक कबड्डी

अनुपम आनंद कहले, भारत के राजनीत में रीढ़ के हड्डी वला बेयान बहुत तबाही वला रहल बा। अइसने बेयान 1990 में बीपी सिंह के सरकार गिरा देले रहे। जब उपपरधानमंतरी देवीलाल के परधानमंतरी बीपी सिंह से झगड़ा चरम पs पहुंच गइल तs केन्द्र सरकारा के कुर्सी हिले लागल। एही बीच देवीलाल एगो इंटरब्यू में बीपी सिंह के रीढ़विहीन (स्पाइनलेस) नेता कह देले। जब अंगरेजी साप्ताहिक पत्रिका इलस्ट्रेटेड विकली में ई इंटरभ्यू छपल तs भारत के राजनीति में भूकंप आ गइल। देश के परधानमंतरी के उनके सहजोगी रीढ़विहीन नेता कह देले। एकरा बाद लड़ाई अइसन बढ़ल कि केन्द्र सरकार के पतन के रास्ता तइयार हो गइल। अब राजद के बेयान पs गौर करs। दिल्ली में परधानमंतरी से मोलकात खातिर बिहार के नेता पहुंचल रहन। एही दौरान कई गो फोटो खिंचल गइल। एक फोटो में नीतीश जी तेजस्वी के कुछ समझा रहल बाड़े अउर तेजस्वी तनी तन के खाड़ा बाड़े। एह फोटो के आधार पs राजद के एगो नेता लिख देले, तेजस्वी जी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बता और दिखा रहे हैं कि राजनीति में रीढ़ की हड्डी कैसे सीधी और मजबूत रहनी चाहिए। जाहिर बा ई उकसावे वला बेयान बा। जातीय जनगणना के मुद्दा पर नीतीश जी राजद खातिर कुछ उदार हो गइल रहन। लेकिन अब तs बात बिगड़बे करी।

राजद के मेल में खेल !

देवकी नंदन कहले, राजद के बिचार ओह लइका जइसन बा जे हरमेसा बघवा कौर खाये के जिद करे। लालू जी कांग्रेस के साथ दिल मांगे मोर के नीति पs चलत रहन। ऊ कांग्रेस के सहजोग भी चाहत रहन अउर हिंसदारी भी कम देल चाहत रहन। ऊ कांगरेस के साथे भी रहन अउर ओकरा के बिना औकात वला पाटी भी कहत रहन। लेकिन ई दोतरफी बात से उनका नोकसान भी भइल। 2009 के लोकसभा चुनाव में लालू जी बिहार में कांगरेस के तीन-चार सीट से अधिक देवे खातिर तइयार ना रहन। कांग्रेस अकेल लड़ल। एकर नतीजा लालू जी के भोगे के पड़ल। 22 सीट वला लालू जी धड़ाम से 4 सीट पर गिर गइले। तब ऊ कहले रहन कि कांगरेस के कम सीट देवे के औफर ऊनकर गलत फैसला रहे। कांगरेस से गठबंधन टूटला के चलते नोकसान उठावे के पड़ल। लालू जी पs हरमेसा ई आरोप लागल कि ऊ आपन सहजोगी दल के इज्जात ना करत रहन। 2015 में जब लालू जी के नीतीश जी से मेल भइल तs ऊ दूइये साल में काहे टूट गइल ? ई मन से मन के मेला ना रहे। जब राजद नेता शहाबुद्दीन नीतीश जी के परिस्थितियों के सीएम कहले तs लालू जी उनकर बचाव करे लागल रहन। जदयू-राजद में भले मंडल के मेल बा लेकिन मन से मेल नइखे।

यह भी पढ़ें: Bhojpuri: करुणानिधि के तर्ज पs का लालू जी ‘तेज’ के निकाल सके ले राजद से?

शह मात के खेल

देवकी नंदन के बात जारी रहे। जातीय जनगणना के मुद्दा पs राजद शुरू में खूब माहौल बनइलस। नीतीश सरकार अउर मोदी सरकार के घेरलस। लेकिन अब ई राजनीति पटना से दिल्ली शिफ्ट हो गइल बा। गेंदा केन्द्र सरकार के पाला में बा। जातीय जनगणना के मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में बिचाराधीन बा। केंद्र सरकार कोर्ट के फैसला आवे तक ई मामला पs शायद ही कवनो बिचार करे। अइसे जातीय जनगणना दोधारी तलवार के तरह बा। अगर फायदा बा तs नोकसान के खतरा भी बा। जइसे अगर मान लिहल जाव कि अगर जनगणना के बाद पता चले कि ओबीसी बर्ग के कवनो जाति अपना आबादी से अधिक आरक्षण के फैदा ले रहल बिया तब का होई ? बबाल होई कि ना ? रोहिणी आयोग एह बात के बिसलेसन कइले बा कि ओबीसी बर्ग के कवन जाति के आरक्षण के सबसे अधिक फैदा मिलल बा अउर कवन जाति के बेलकुले नइखे मिलल। मंडल कमिशन 3743 जात के पिछड़ा बर्ग में शामिल कइले रहे। रोहिणी आयोग 2018 में पिछला पांच साल में ओबीसी कोटा के तहत मिलल सरकारी नौकरी के बिसलेसन कइले रहे। तब पता चलल रहे कि आरक्षण के 97 प्रतिशत फैदा ओबीसी के सिर्फ 25 प्रतिशत जात के मिलल रहे। रोहिणी आयोग के कार्यकाल दिसम्बर 2021 में खत्म हो रहल बा। एही बीच अगर एकर रिपोट आ गइल तs तेजस्वी के दांव उल्टा भी पड़ सकेला। तब पता चल जाई कि मंडल आरक्षण के फैदा कवन जात सबसे अधिक उठा रहल बा। तब पिछड़ा बर्ग के कुछ ताकतवर जात के राजनीत बदल भी सकेला। देवकी नंदन के बात पs अनुपम आनंद सोच बिचार में पड़ गइले।

यह भी पढ़ें: Bhojpuri: जानीं के रहे लालू जी के जिगरी यार, जे कहात रहे बिहार के सुपर CM

Related Articles

अंगद कुमार ओझा की फिल्म ‘करिया’ का सेकंड शेड्यूल 20 सितंबर से देवरिया में

फिल्मी दुनियाँ में अलग मुकाम हासिल करने वाले सशक्त फ़िल्म अभिनेता अंगद कुमार ओझा बहुचर्चित फ़िल्म करिया की शूटिंग का सेकंड शेड्यूल...

नीलम गिरी और शिल्पी राज के ‘गोदनवा’ को मिले 4 दिन में 5 मिलियन से ज्यादा व्यूज

‘गरईया मछरी’ की अपार सफलता के बाद एक बार फिर से अभिनेत्री नीलम गिरी और सिंगर शिल्पी राज अपना नया धमाकेदार सांग...

नीलकमल सिंह ने प्रगति भट्ट से कहा ‘लिपिस्टिक का color चेंज कीजिए’, गाना 1 दिन में पहुंचा एक मिलियन के पार

भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया सांग 'लिपस्टिक का Color चेंज कीजिए'...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

अंगद कुमार ओझा की फिल्म ‘करिया’ का सेकंड शेड्यूल 20 सितंबर से देवरिया में

फिल्मी दुनियाँ में अलग मुकाम हासिल करने वाले सशक्त फ़िल्म अभिनेता अंगद कुमार ओझा बहुचर्चित फ़िल्म करिया की शूटिंग का सेकंड शेड्यूल...

नीलम गिरी और शिल्पी राज के ‘गोदनवा’ को मिले 4 दिन में 5 मिलियन से ज्यादा व्यूज

‘गरईया मछरी’ की अपार सफलता के बाद एक बार फिर से अभिनेत्री नीलम गिरी और सिंगर शिल्पी राज अपना नया धमाकेदार सांग...

नीलकमल सिंह ने प्रगति भट्ट से कहा ‘लिपिस्टिक का color चेंज कीजिए’, गाना 1 दिन में पहुंचा एक मिलियन के पार

भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया सांग 'लिपस्टिक का Color चेंज कीजिए'...

समर सिंह, आकांक्षा दूबे का ब्लॉकबस्टर सांग “नमरिया कमरिया में खोस देब” हुआ 89 मिलियन के पार

देसी स्टार समर सिंह यूट्यूब पर लगातार बवाल मचा रहे हैं और उनके गाने मिलियन में व्यूज हासिल कर रहे हैं। समर...

वीइएस के बाल छात्रों ने टमाटर पर बनाए गणपति

मुंबई। गणेशोत्सव के मद्देनजर नेहरू नगर के  विवेकानंद इंग्लिश प्री-प्राइमरी स्कूल की शिक्षिकाओं ने जुनियर के  जी और सिनियर केजी के चारों...