31 C
Mumbai
Sunday, December 5, 2021

जेएनयू में पढ़ने वाले अफगानी छात्रों को वापस कैंपस में बुलाने की मांग, JNUSU ने कुलपति को लिखा पत्र

नई दिल्‍ली. अफगानिस्‍तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के साथ संघर्ष और वहां जटिल होते जा रहे हालातों के बाद दिल्‍ली के जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के स्‍टूडेंट्स यूनियन (JNUSU) ने विवि के कुलपति को पत्र लिखा है. जिसमें छात्रों ने जेएनयू में पढ़ने वाले करीब चार दर्जन अफगानी छात्रों को वापस यूनिवर्सिटी कैंपस में बुलाने के लिए वीसी से अनुमति देने की मांग की है.

जेएनयूएसयू के चारों पदाधिकारियों की ओर से भेजे गए इस पत्र में कहा गया है कि अफगानिस्‍तान में तालिबान अपना कब्‍जा बढ़ाता जा रहा है और वहां भीषण संघर्ष चल रहा है. अफगानिस्‍तान के बहुत सारे ऐसे छात्र हैं जो जेएनयू में बढ़ाई करते हैं लेकिन कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के कारण जेएनयू कैंपस बंद होने से वे सभी अपने देश लौट गए थे. अब वहां पैदा हुई इन स्थितियों के बाद उनमें से अधिकांश जेएनयू आना चाहते हैं और पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं. इसलिए उन्‍हें आने की अनुमति दी जाए.

अफगानिस्‍तान के छात्रों को भारत आने के लिए छात्र वीजा (Student Visa) की जरूरत है जो कि जेएनयू वीसी की अनुमति से ही जारी होगा. ऐसे में इन कठिन हालातों में यूनिवर्सिटी अफगानिस्‍तान के अपने छात्रों की मदद करे और उन्‍हें तत्‍काल वीजा की अनुमति देकर उनकी मदद करे. इन अफगानी छात्रों में सिर्फ लड़के ही नहीं बल्कि बड़ी संख्‍या में लड़कियां भी हैं. अगर इन्‍हें समय से मदद नहीं मिली तो इन्‍हें अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ेगी.

न्‍यूज 18 हिंदी से बातचीत में जेएनयूएसयू के ज्‍वाइंट सेक्रेटरी मोहम्‍मद दानिश ने बताया कि जेएनयू में विदेशों से छात्र पढ़ाई करने आते हैं. इस बार भी जेएनयू में अफगानिस्‍तान के करीब 40-50 लड़के और लड़कियां जेएनयू में नामांकित हैं और कोरोना से पहले तक यहां कैंपस में रहकर पढ़ाई कर रहे थे लेकिन कोरोना की पहली लहर के कारण सभी को अपने-अपने घर लौटना पड़ा था और अभी तक वे वहीं हैं क्‍योंकि यहां कैंपस अभी खुला नहीं है.

दानिश ने बताया कि जेएनयू कैंपस में भारत के कई इलाकों से कुछ छात्र आए हैं हालांकि उन्‍हें भी आने की अनुमति नहीं थी और फाइन देना पड़ा है लेकिन विदेशों से आने वाले छात्रों के लिए छात्र वीजा की जरूरत पड़ती है जोकि विवि के वीसी ही दे सकते हैं. ऐसे में जेएनयूएसयू ने सभी छात्रों की तरफ से मांग की है कि उन छात्रों की मदद की जाए और उन्‍हें यहां आने देने के लिए वीजा की अनुमति मिले ताकि वे अपनी पढ़ाई जारी रख सकें.

Related Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

घाटकोपर में क्लीनअप मार्शल द्वारा गांधीगिरी, बिना मास्क के चलने वालों को मास्क व गुलाब देकर किया जनजागरूक

 मुंबई:घाटकोपर: विनामास्क के नागरिकों और सफाई कर्मियों के बीच विवाद अक्सर सामने आते रहे हैं। लेकिन आज घाटकोपर क्षेत्र में सफाई कर्मी...

ट्राम्बे के जाने माने समाजसेवक शब्बीर खान की घर वापसी

भाई जगताप और शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ की मौजूदगी में हुए कांग्रेस में शामिल मुंबई: आने वाले समय में...