30 C
Mumbai
Wednesday, January 19, 2022

लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने से लोगों में खुशी, बोले, 'अब होगा विकास'

लेह/करगिल: लद्दाख (Ladakh) के केंद्र शासित प्रदेश (Union territory) बन जाने पर क्षेत्र में राजनीतिक दलों की ओर से मिलीजुली प्रतिक्रियाएं मिली हैं. करगिल (Kargil) में नेताओं ने ‘काला दिन’ मनाया जबकि लेह में नेता इसे विकास के एक अवसर के तौर पर देख रहे हैं. जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) और लद्दाख को केंद्र सरकार के पांच अगस्त के फैसले के अनुसार विभाजित कर दो केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है. केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हटाने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने का फैसला लिया था.

71 साल से इंतजार कर रहे थे लोग

लद्दाख से बीजेपी सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल ने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोगों ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने को स्वीकार कर लिया है. नामग्याल अपनी ‘पिक्चर अभी बाकी है’ टिप्पणी से लोकसभा में राज्य के विभाजन पर चर्चा के दौरान सुर्खियों में आए थे.

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘लद्दाख के लोग पिछले 71 वर्षों से इसका इंतजार कर रहे थे. हम इस कदम को समावेशी विकास योजना के तौर पर देखते हैं. इस क्षेत्र में पर्यटन के अलावा सीमा सुरक्षा, रक्षा, परिस्थितिकी तंत्र और औषधीय संयंत्रों के लिए असीम संभावनाएं हैं.’ उन्होंने कहा, ‘इसे एक केंद्र शासित प्रदेश बनाने से बुनियादी ढांचा विकास के लिए और अवसर मिलेंगे.’

करगिल में हो रहा विरोध

वहीं, करगिल शहर में बुधवार से बाजार बंद हैं और राजनीतिक तथा धार्मिक समूहों की एक संयुक्त कार्रवाई समिति ने 31 अक्टूबर को ‘काले दिन’ के रूप में मनाया. करगिल पर्वतीय विकास परिषद के पूर्व अध्यक्ष असगर अली करबलाई ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने पर नाखुशी जताई और कहा, ‘हम इस फैसले के पूरी तरह खिलाफ हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हम लगातार इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और पिछले तीन दिनों से लोग सड़कों पर हैं, बाजार बंद हैं और सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद हैं.’ करबलाई ने कहा कि करगिल के लोग अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने के खिलाफ हैं और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटना ‘हमारे हितों के खिलाफ हैं.’

उन्होंने कहा, ‘यह लोगों की सहमति के बिना थोपा गया फैसला है. अब हमारे पास कोई विधानसभा या शक्तियां नहीं रही.’ उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में पुडुचेरी की तरह विधानसभा होगी जबकि लद्दाख में चंडीगढ़ की तरह कोई विधानसभा नहीं होगी और दोनों का नेतृत्व अलग-अलग उपराज्यपाल करेंगे.

कुछ लोगों में आशंकाएं

लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (करगिल) के अध्यक्ष और सीईसी फिरोज अहमद खान ने कहा, ‘हालांकि इस कदम से विकास होने की उम्मीद है लेकिन लोगों को शिक्षा और नौकरियों को लेकर आशंकाएं हैं. वे नौकरियों के सिलसिले में और सुरक्षा चाहते हैं.’ उन्होंने लद्दाख के करगिल मंडल में बच्चों के लिए आरक्षण की वकालत करते हुए कहा, ‘अगर शिक्षा और अन्य क्षेत्र सभी के लिए खुले हैं तो लोगों को आशंकाएं हैं कि क्या उनके बच्चे अच्छी नौकरियां हासिल कर सकेंगे.’

फैसले का स्‍वागत

करगिल के पूर्व विधान परिषद सदस्य आगा सैयद अहमद रजवी ने कहा, ‘करगिल से भेदभाव किया गया है और उसे फिर किनारे कर दिया गया है. इससे पहले भी हम अलग हुए थे और अब हमारी इच्छा के विरुद्ध ऐसा किया गया.’

उन्होंने कहा, ‘नागरिक यह विभाजन नहीं चाहते. हम आजादी मांगने वाले नहीं हैं, हम एकता और न्याय चाहते हैं. अब जबकि यह विभाजन हो गया है तो करगिल तथा लेह के बीच संतुलन बनाना चाहिए.’ नुब्रा घाटी के पूर्व विधायक डेल्डन नामग्याल ने कहा, ‘हम केंद्र शासित प्रदेश के फैसले का स्वागत करते हैं लेकिन हम अपनी संस्कृति तथा आर्थिक आयामों की रक्षा करने के लिए छठी अनुसूची में शामिल किए जाने की उम्मीद कर रहे हैं.’

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने पर क्या-क्या बदल गया

Related Articles

घाटकोपर के फुटपाथ हुए फेरी वालो के कब्जे में

बिना परवाना धड़ल्ले से चल रहे अवैध धंधे मुंबई। मनपा एन विभाग का फेरीवालों का उड़नदस्ता मतलब चोर गाडी...

कर्नाटक के CM की सुरक्षा से जुड़े सिपाही ड्रग पैडलिंग के आरोप में पकड़े गए!

Karnataka CM security constables held for drug peddling : पकड़े गए दोनों सिपाही मुख्यमंत्री बोम्मई (CM Basavaraj Bommai) के आरटी नगर स्थित आवास पर तैनात सुरक्षा दस्ते में शामिल हैं. ये दोनों नशीले पदार्थों की आपूर्ति करने वाले बदमाशों (Drug Peddlers) से गांजा खरीदते थे. फिर उसे अपने ग्राहकों को उपलब्ध कराते थे.

पंजाब में खालिस्तानी आंदोलन के समर्थक नेताओं के भाजपा के साथ आने के क्या मायने हैं?

BJP in Punjab Assembly Election : दमदमी टकसाल (Damdami Taksal) के प्रमुख वर्तमान में हरनाम सिंह धुम्मा (Harnam Singh Dhumma) हैं, जिनके प्रवक्ता सरचंद सिंह ने भाजपा (BJP) की सदस्यता ली है. इसमें भी खास बात ये है कि सरचंद सिंह खुद भी 1980 के दौर में भिंडरांवाले की लड़ाका छात्र इकाई (Sikh’s Student Federation) के प्रमुख रहे हैं. सरचंद सिंह के भाजपा (BJP) में शामिल होने के तुरंत बाद ही गुरचरण सिंह तोहड़ा ने भी पार्टी की सदस्यता ली, जिन्हें ‘सिखों का पोप’ (Pope of Sikhs) तक कहा जाता है. क्योंकि वे 27 साल तक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंध समिति (SGPC) के प्रमुख रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

घाटकोपर के फुटपाथ हुए फेरी वालो के कब्जे में

बिना परवाना धड़ल्ले से चल रहे अवैध धंधे मुंबई। मनपा एन विभाग का फेरीवालों का उड़नदस्ता मतलब चोर गाडी...

कर्नाटक के CM की सुरक्षा से जुड़े सिपाही ड्रग पैडलिंग के आरोप में पकड़े गए!

Karnataka CM security constables held for drug peddling : पकड़े गए दोनों सिपाही मुख्यमंत्री बोम्मई (CM Basavaraj Bommai) के आरटी नगर स्थित आवास पर तैनात सुरक्षा दस्ते में शामिल हैं. ये दोनों नशीले पदार्थों की आपूर्ति करने वाले बदमाशों (Drug Peddlers) से गांजा खरीदते थे. फिर उसे अपने ग्राहकों को उपलब्ध कराते थे.

पंजाब में खालिस्तानी आंदोलन के समर्थक नेताओं के भाजपा के साथ आने के क्या मायने हैं?

BJP in Punjab Assembly Election : दमदमी टकसाल (Damdami Taksal) के प्रमुख वर्तमान में हरनाम सिंह धुम्मा (Harnam Singh Dhumma) हैं, जिनके प्रवक्ता सरचंद सिंह ने भाजपा (BJP) की सदस्यता ली है. इसमें भी खास बात ये है कि सरचंद सिंह खुद भी 1980 के दौर में भिंडरांवाले की लड़ाका छात्र इकाई (Sikh’s Student Federation) के प्रमुख रहे हैं. सरचंद सिंह के भाजपा (BJP) में शामिल होने के तुरंत बाद ही गुरचरण सिंह तोहड़ा ने भी पार्टी की सदस्यता ली, जिन्हें ‘सिखों का पोप’ (Pope of Sikhs) तक कहा जाता है. क्योंकि वे 27 साल तक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंध समिति (SGPC) के प्रमुख रहे हैं.

Lucknow News: ट्रैफिक चालान से बचने के लिए लड़की ने लगाया गजब का दिमाग, पुलिस के सामने यूं खुला भेद

थाना ठाकुरगंज के बालागंज इलाके के रहने वाले रविंद्र कुमार ने जून 2020 में लखनऊ ट्रैफिक पुलिस में शिकायत की थी कि उनकी बेटी की स्कूटी जुपिटर घर में खड़ी है, लेकिन उसके ऑनलाइन चालान आ रहे हैं. हद तो तब हो गई जब इन चालानों की रक़म एक लाख रुपये तक पहुंच गई. रविंद्र की शिकायत पर ट्रैफिक पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज निकाला तो पूरे मामले का खुलासा हुआ.

Goa Assembly Election: अमित पालेकर होंगे AAP के सीएम उम्मीदवार, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान

Goa Assembly Election: केजरीवाल ने कहा कि कई ऐसे उम्मीदवार हैं, जो कभी चुनाव नहीं लड़े. गोवा के सीएम का चेहरा भी नया चेहरा है. उसके दिल में गोवा बसता है. गोवा के लिए अपनी जान तक देने को तैयार है. एक ऐसा शख्स जो गोवा के सभी लोगों को साथ लेकर चलेगा. अमीर-गरीब, हर धर्म के लोगों को साथ लेकर चलेगा. पढ़ा लिखा होगा. गोवा में अमित पालेकर सीएम चेहरा होगा.