34 C
Mumbai
Saturday, November 27, 2021

Afghanistan crisis: अमेरिकी राष्ट्रपति ने अफगानिस्तान में और सैनिक भेजने का दिया आदेश, तालिबान को दी चेतावनी

न्यूयॉर्क. तालिबान ने अफगानिस्तान ( Afghanistan crisis) के लगभग हर बड़े शहर पर कब्जा जमा लिया है. अब इस बात की आशंका बढ़ गई है कि वे जल्द ही देश की राजधानी काबुल की ओर बढ़ सकते हैं, जहां लाखों अफगान रहते हैं. इस बीच अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने शनिवार को अफगानिस्तान में एक हज़ार और सैनिक भेजने का फैसला किया है. अब कुल मिलाकर 5000 अमेरिकी सैनिक की वहां तैनाती वहां हो जाएगी. इस तैनाती से अमेरिका अफगानिस्तान के ऐसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकालना चाहता है, जिसने पिछले 20 सालों में उनके सैनिकों की मदद की.

अफ़ग़ानिस्तान में हज़ारों अमेरिकी सैनिकों को फिर से भेजने की सबसे बड़ी वजह है वहां के ताजा हालात. तालिबान ने कुछ ही दिनों में कई अफ़ग़ान शहरों पर कब्ज़ा कर लिया है. बाइडन ने हमलों की 20वीं बरसी से पहले अपने सैनिकों को वापस बुलाने के लिए 31 अगस्त की समयसीमा तय की थी. ऐसे में ये सवाल उठने लगे हैं कि क्या अमेरिका सैनिकों की वापसी का काम 31 अगस्त की समयसीमा के भीतर पूरा कर पाएगा.

तलिबान को चेतावनी

इस बीच जो बाइडन ने तालिबान को नए सीरे से चेतावनी दी है. उन्होंने कहा है कि जो कोई भी अमेरिकी कर्मियों या उनके मिशन को खतरे में डालेगा उन्हें करारा जवाब दिया जाएगा. बाइडन की ये चेतावनी तालिबान द्वारा मजार-ए-शरीफ पर कब्जा करने के बाद आई है. बताया जा रहा है कि वो अब राजधानी काबुल की ओर तेजी से मार्च कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:- Maharashtra New COVID Rules: महाराष्‍ट्र में आज से नए कोरोना नियम लागू, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

30,000 लोगों को निकालने का मिशन

उधर यूएस सेंट्रल कमांड ने कहा कि अमेरिकी दूतावास के कर्मचारियों और अमेरिकी सेना के लिए काम करने वाले अफगान नागरिकों की सुरक्षित निकासी सुनिश्चित करने के लिए अधिक सैन्यकर्मी काबुल पहुंचे हैं. पेंटागन का अनुमान है कि 31 अगस्त तक अफगानिस्तान से अपनी वापसी पूरी करने से पहले उसे लगभग 30,000 लोगों को निकालने की आवश्यकता होगी.

अशरफ गनी का राष्ट्र के नाम संदेश

इस बीच अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा है कि वह 20 वर्षों की ‘उपलब्धियों’ को बेकार नहीं जाने देंगे. उन्होंने कहा कि तालिबान के हमले के बीच ‘विचार-विमर्श’ जारी है. उन्होंने शनिवार को टेलीविजन के माध्यम से राष्ट्र को संबोधित किया. हाल के दिनों में तालिबान द्वारा प्रमुख क्षेत्रों पर कब्जा जमाए जाने के बाद से यह उनकी पहली सार्वजनिक टिप्पणी है. अमेरिका ने इस हफ्ते कतर में सरकार और तालिबान के बीच शांति वार्ता जारी रखी है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने चेतावनी दी है कि बलपूर्वक स्थापित तालिबान सरकार को स्वीकार नहीं किया जाएगा.

Related Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

राकंपा महिला आघाडी सम्मेलन संपन्न

कइयों की हुई नियुक्ति मुंबई। प्रदेश महासचिव व पनवेल जिला निरिक्षक भावनाताई घाणेकर की निर्देश व मार्गदर्शन में नई...

फिल्म ‘बेगुनाह’ का पोस्ट प्रोडक्शन का काम जोरो पर

स्कामखी एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी भोजपुरी फ़िल्म बेगुनाह का पोस्ट प्रोडक्शन का काम तेजी से चल रहा है और बहुत जल्द...