26.3 C
Mumbai
Sunday, September 19, 2021

बगैर मॉनीटर की क्लास की तरह होती जा रही कांग्रेस और हाथ से छूटती कमान

देश का सबसे पुराना दल धीरे-धीरे अपना जादू ही नहीं अस्तित्व भी खोता जा रहा है. महज़ तीन राज्यों- पंजाब, छत्तीसगढ़ राजस्थान तक सिमटी कांग्रेस में अंदरूनी कलह मुखर होती जा रही है. पार्टी की चुनावी संभावनाओं के लिए अब अन्य राज्यों में पार्टी को अपना किला बचाने पर ध्यान देना होगा. हालांकि ये पार्टी के लिए एक बड़ी चुनौती साबित होती जा रही है क्योंकि अंदरूनी कलह का निपटारा होता दिख नहीं रहा है और आलाकमान शांति स्थापित करने में असमर्थ नज़र आ रहा है. पंजाब में कलह को खत्म करने के लिए आलाकमान देर से जागा और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ बुलंद होते विरोध के सुर को दबाने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) का प्रमुख बनाया गया. लेकिन इससे मामला निपटता नज़र नहीं आ रहा है और पार्टी में मौजूद असंतुष्टों ने छह महीने बाद होने वाले चुनाव के अभियान के लिए नए चेहरा लाने की मांग की है.

वहीं छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और वरिष्ठ मंत्री टीएस सिंह देव के बीच तनातनी को सुलझाने के लिए राहुल गांधी को हस्तक्षेप करना पड़ा लेकिन उससे लगता नहीं है कि कोई बात बन सकी है. इसी तरह राजस्थान में भी अंदरून कलह के चलते पार्टी की सत्ता जाते-जाते बची थी. फिलहाल कांग्रेस पार्टी का हाल उस क्लास की तरह हो गया है जिसका कोई मॉनीटर नहीं है. आलाकमान भी ऐसे मुश्किल वक्त में शीर्ष नेतृत्व को संभालने में पूरी तरह अक्षम नजर आ रहा है और किसी तरह की लकीर खींचने के काबिल नहीं दिख रहा है. 19 वहीं सदी के अंत में जब कांग्रेस की स्थापना हुई, तभी से पार्टी में आंतरिक झगड़े होते रहे हैं. लेकिन उनमें से ज्यादातर वैचारिक मतभेद के चलते होते थे. इस तरह से व्यक्तिगत हित के चलते कई नेताओं ने खुद के दल स्थापित किए या फिर उन्होंनें विरोधी गुट का दामन थाम लिया.

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस की संपादकीय में कहा गया है- पश्चिम बंगाल, असम, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश, आंध्रप्रदेश, और तेलंगाना में जो सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं वो कांग्रेस के पूर्व नेता है. नेतृत्व का अभाव यहां साफ नज़र आया था जब साल 2019 में चुनाव में शिकस्त मिली और राहुल गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद सोनिया गांधी कार्यकारी अध्यक्ष बनी लेकिन इससे पार्टी में किसी तरह की कोई बात नहीं बन सकी. कई राज्यों में विरोध करने वाले नेता ज़मीनी स्तर पर अच्छी पकड़ रखते हैं. लेकिन आलाकमान उन्हें अनुशासन में रखने में नाकाम रही है. नेतृत्व के अभाव की वजह से विरोधी गुट को अपने शीर्ष के साथ निर्देशों की अनदेखी करने का प्रोत्साहन मिला है.

आलाकमान के हाथ से कमान छूटना है वजह…

वरिष्ठ नेता जैसे मल्लिकार्जुन खड़गे और हरीश रावत जिन्हें केंद्र का दूत माना जाता है, अंसतुष्टों को ठीक करने या राज्य के क्षत्रपों से अपना वादा पूरा कराने में असफल रहे हैं. इस सब के पीछे महज एक वजह है आलाकमान के हाथ से कमान छूटना. इसका नतीजा 2017 में गोवा और मणिपुर मे देखने को मिला जब भाजपा ने कांग्रेस के मुंह से उसका निवाला छीन लिया. इसी तरह मध्यप्रदेश में कमलनाथ की सरकार और कर्नाटक में जेडी (एस) के गठबंधन में बनी सरकार खुद को बचाए नहीं रख सकी.

कांग्रेस पार्टी इस वक्त उस नाव की तरह है जो बिना पतवार के बह रही है, ये पार्टी के लिए विपक्ष के तौर पर भी चिंता की बात है. ऐसे में ज़रूरी है कि कांग्रेस को अपने घर संभालने और उसकी नींव को मजबूत करने के लिए अपने नेतृत्व में सुधार लाना होगा और आलाकमान को बेलगाम होती कांग्रेस की कमान को तुरंत संभालना होगा.

Related Articles

अंगद कुमार ओझा की फिल्म ‘करिया’ का सेकंड शेड्यूल 20 सितंबर से देवरिया में

फिल्मी दुनियाँ में अलग मुकाम हासिल करने वाले सशक्त फ़िल्म अभिनेता अंगद कुमार ओझा बहुचर्चित फ़िल्म करिया की शूटिंग का सेकंड शेड्यूल...

नीलम गिरी और शिल्पी राज के ‘गोदनवा’ को मिले 4 दिन में 5 मिलियन से ज्यादा व्यूज

‘गरईया मछरी’ की अपार सफलता के बाद एक बार फिर से अभिनेत्री नीलम गिरी और सिंगर शिल्पी राज अपना नया धमाकेदार सांग...

नीलकमल सिंह ने प्रगति भट्ट से कहा ‘लिपिस्टिक का color चेंज कीजिए’, गाना 1 दिन में पहुंचा एक मिलियन के पार

भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया सांग 'लिपस्टिक का Color चेंज कीजिए'...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

अंगद कुमार ओझा की फिल्म ‘करिया’ का सेकंड शेड्यूल 20 सितंबर से देवरिया में

फिल्मी दुनियाँ में अलग मुकाम हासिल करने वाले सशक्त फ़िल्म अभिनेता अंगद कुमार ओझा बहुचर्चित फ़िल्म करिया की शूटिंग का सेकंड शेड्यूल...

नीलम गिरी और शिल्पी राज के ‘गोदनवा’ को मिले 4 दिन में 5 मिलियन से ज्यादा व्यूज

‘गरईया मछरी’ की अपार सफलता के बाद एक बार फिर से अभिनेत्री नीलम गिरी और सिंगर शिल्पी राज अपना नया धमाकेदार सांग...

नीलकमल सिंह ने प्रगति भट्ट से कहा ‘लिपिस्टिक का color चेंज कीजिए’, गाना 1 दिन में पहुंचा एक मिलियन के पार

भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया सांग 'लिपस्टिक का Color चेंज कीजिए'...

समर सिंह, आकांक्षा दूबे का ब्लॉकबस्टर सांग “नमरिया कमरिया में खोस देब” हुआ 89 मिलियन के पार

देसी स्टार समर सिंह यूट्यूब पर लगातार बवाल मचा रहे हैं और उनके गाने मिलियन में व्यूज हासिल कर रहे हैं। समर...

वीइएस के बाल छात्रों ने टमाटर पर बनाए गणपति

मुंबई। गणेशोत्सव के मद्देनजर नेहरू नगर के  विवेकानंद इंग्लिश प्री-प्राइमरी स्कूल की शिक्षिकाओं ने जुनियर के  जी और सिनियर केजी के चारों...