27 C
Mumbai
Friday, September 17, 2021

जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन कितनी असरदार और क्या है विवाद, नए टीके को चुनने से पहले जानें सब कुछ

नई दिल्ली. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को कहा कि भारत में जॉनसन एंड जॉनसन के एक खुराक वाले कोविड-19 रोधी टीके के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी गई है. मांडविया ने ट्वीट किया, ‘भारत ने टीके की अपनी डलिया (बास्केट) को और बड़ा किया. भारत में जॉनसन एंड जॉनसन के एक खुराक वाले कोविड-19 रोधी टीके के आपात इस्तेमाल को मंजूरी मिली. अब भारत के पास आपात इस्तेमाल के लिए पांच टीके हैं. इससे संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में देश के समग्र प्रयासों को और मजबूती मिलेगी.’

अमेरिका की दवा कंपनी ने अपने टीके के आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए शुक्रवार को आवेदन दिया था और भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने उसी दिन उसे मंजूरी दे दी.

[q]

जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन मॉडर्ना और फाइजर जैसे टीकों से कैसे अलग है?

[/q]

[ans]मॉडर्ना और फाइजर जैसे अन्य अमेरिकी टीकों के विपरीत, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन शरीर को वायरस के खिलाफ अपनी सुरक्षा बनाने में मदद करने के लिए मैसेंजर आरएनए (एमआरएनए) का इस्तेमाल नहीं करती है. इसके बजाय, यह ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की तरह एक एडेनोवेक्टर वैक्सीन है. इस मामले में, कोरोना वायरस के सिग्नेचर स्पाइक प्रोटीन के जीन को एक एडेनोवायरस सामान्य वायरस जो सर्दी या फ्लू जैसे लक्षणों का कारण बनता है, में जोड़ा जाता है और जो शरीर में जाने पर निर्देश देता है एवं मानव कोशिकाओं को स्पाइक प्रोटीन बनाना सिखाता है. इसी वजह से यह एंटीबॉडी बनाकर प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) के जरिए स्पाइक प्रोटीन पर हमला करता है.[/ans]

[q]

जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन को पहले इस्तेमाल का लाभ कैसे मिला?[/q]

[ans]वैक्सीन के इतिहास से पता चलता है कि इसका सबसे अहम सूत्र कोरोना वायरस के प्रकोप से एक दशक पहले इसका टीका बनाने में था. बेथ इज़राइल डेकोनेस मेडिकल सेंटर के एक वायरोलॉजिस्ट डैन बारौच और उनकी टीम पिछले डेढ़ दशक से एक ‘वेक्टर’ विकसित कर रही थी, जिसके अनुसार एक रोगजनक के आनुवंशिक कोड का एक हिस्सा मानव कोशिकाओं में भेजा जाएगा. एक बार वहां जाने के बाद, यह कोशिकाओं को शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) की पहचान करने और हमला करने के लिए रोगजनक के टुकड़े बनाने के लिए प्रेरित करेगा.

[/ans]

[q]जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन कितना असरदार है?[/q]

[ans]जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन वर्तमान में एकमात्र वैक्सीन है, जो केवल एक खुराक के बाद ही प्रभावी है. अधिकारी इस टीके का उपयोग उन लोगों पर कर सकते हैं जिन तक पहुंचना मुश्किल हो सकता है या जिन्हें दूसरी खुराक मिलने की संभावना नहीं है. सभी भारतीय टीकों के विपरीत, जिन्हें 2-8 डिग्री सेल्सियस पर रखा जाना है, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन को सामान्य तापमान पर तीन महीने तक रेफ्रिजरेट किया जा सकता है. इसका मतलब यह हुआ कि सरकार इस वैक्सीन के स्टॉक को देश के उन ग्रामीण हिस्सों में भी आसानी से भेज सकेगी, जहां कोल्ड चेन अच्छी तरह से विकसित नहीं हो सकती है. जॉनसन एंड जॉनसन ने कहा कि एक अध्ययन से पता चला है कि टीका गंभीर/गंभीर बीमारी और अस्पताल में भर्ती और मौत के खिलाफ सुरक्षा के मामले में 85 प्रतिशत प्रभावी था.[/ans]

[q]वैक्सीन की कितनी खुराक देनी है?[/q]

[ans]विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के विशेषज्ञों के रणनीतिक सलाहकार समूह के अनुसार, Janssen Ad26.CoV2.S वैक्सीन की एक खुराक (0.5 मिली) को शरीर में नसों के जरिए इंजेक्ट करना है. इसके अलावा, इस टीके और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के खिलाफ किसी भी अन्य टीके को देने के बीच 14 दिनों का अंतराल होना चाहिए.[/ans]

[q]

वैक्सीन को लेकर क्या विवाद हैं?[/q]

[ans]जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन एक के बाद एक विवादों से घिरी हुई है. उदाहरण के लिए, 13 अप्रैल को, अमेरिकी सरकार ने कुछ मामलों की जांच के लिए टीके को रोक दिया था क्योंकि वैक्सीन लेने के बाद लोगों के शरीर में रक्त के थक्कों जैसी परेशानी सामने आई. सभी मामले टीकाकरण के दो सप्ताह के भीतर सामने आए थे. लेकिन 23 अप्रैल को वैज्ञानिक सलाहकारों के फैसले के बाद अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने वैक्सीन पर से रोक हटा दी. फिर से, महीने की शुरुआत में, सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं ने कुछ पोस्ट साझा किए, जिसमें दावा किया गया था कि वैक्सीन में गर्भपात भ्रूण डीएनए (Aborted Fetal DNA)शामिल है, जिसके लिए न्यू ऑरलियन्स के रोमन कैथोलिक आर्चडायसी ने एक बयान जारी कर इसे ‘नैतिक रूप से समझौता’ बताया था. बाद में यह स्पष्ट किया गया कि वैक्सीन ने अपनी उत्पादन प्रक्रिया के दौरान प्रयोगशाला-प्रतिकृति भ्रूण कोशिकाओं का उपयोग किया था, वैक्सीन में स्वयं कोई भ्रूण कोशिकाएं नहीं होती हैं.

[/ans]

Related Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

मध्य रेल पर स्वच्छता शपथ के साथ स्वच्छता पखवाड़ा-2021 शुरू

मुंबई। श्री अनिल कुमार लाहोटी, महाप्रबंधक, मध्य रेल ने दिनांक 16.9.2021 को पुणे मंडल के निरीक्षण के दौरान मिरज रेलवे स्टेशन पर...

साकीनाका में बलात्कार ओर हत्या के बाद लड़कियों की सुरक्षा को लेकर अभिभावकों में चिंता

मुंबई। महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को काफी सुरक्षित माना जाता है लेकिन पिछले दिनों साकीनाका...