27 C
Mumbai
Friday, September 17, 2021

पुलिस थानों में सबसे ज्यादा मानवाधिकार हनन का खतरा, संवेदनशील बनें पुलिस अधिकारी- CJI रमण

नई दिल्ली. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) एन. वी. रमण (CJI NV Ramana) ने रविवार को कहा कि थानों में मानवाधिकारों के हनन का सबसे ज्यादा खतरा है. CJI ने कहा कि हिरासत में यातना और अन्य पुलिसिया अत्याचार देश में अब भी जारी हैं. उन्होंने कहा कि ‘विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को भी ‘थर्ड डिग्री’ की प्रताड़ना से नहीं बख्शा जाता है.’ उन्होंने देश में पुलिस अधिकारियों को संवेदनशील बनाने की भी पैरवी की. राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (NALSA) के मुख्य संरक्षक CJI ने कहा कि कानूनी सहायता के संवैधानिक अधिकार और मुफ्त कानूनी सहायता सेवाओं की उपलब्धता के बारे में जानकारी का प्रसार पुलिस की ज्यादतियों को रोकने के लिए आवश्यक है. उन्होंने कहा, ‘प्रत्येक थाने, जेल में डिस्प्ले बोर्ड और होर्डिंग लगाना इस दिशा में एक कदम है.’ साथ ही कहा कि नालसा को देश में पुलिस अधिकारियों को संवेदनशील बनाने के लिए कदम उठाना चाहिए.

जस्टिस रमण विज्ञान भवन में कानूनी सेवा मोबाइल एप्लिकेशन (ऐप) और नालसा के दृष्टिकोण और ‘मिशन स्टेटमेंट’ की शुरुआत के अवसर पर संबोधित कर रहे थे. मोबाइल ऐप गरीब और जरूरतमंद लोगों को कानूनी सहायता के लिए आवेदन करने और पीड़ितों को मुआवजे की मांग करने में मदद करेगा. नालसा का गठन विधिक सेवा प्राधिकरण कानून, 1987 के तहत समाज के कमजोर वर्गों को मुफ्त कानूनी सेवाएं प्रदान करने और विवादों के सौहार्दपूर्ण समाधान की दिशा में लोक अदालतों का आयोजन करने के लिए किया गया था.

‘न्याय तक पहुंच’ कार्यक्रम को निरंतर चलने वाला अभियान बताते हुए CJI ने कहा कि कानून के शासन द्वारा शासित समाज बनने के लिए ‘अत्यधिक विशेषाधिकार प्राप्त और सबसे कमजोर लोगों के बीच न्याय तक पहुंच के अंतर को पाटना’ जरूरी है. उन्होंने कहा, ‘यदि, एक संस्था के रूप में न्यायपालिका नागरिकों का विश्वास हासिल करना चाहती है, तो हमें सभी को आश्वस्त करना होगा कि हम उनके लिए मौजूद हैं. लंबे समय तक कमजोर आबादी न्याय प्रणाली से बाहर रही है.’

अतीत से भविष्य का निर्धारण नहीं – CJI

CJI ने कहा, ‘अतीत से भविष्य का निर्धारण नहीं होना चाहिए और सभी को समानता लाने के लिए काम करना चाहिए.’ उन्होंने कहा, ‘मानवाधिकारों और शारीरिक चोट, नुकसान का खतरा थानों में सबसे ज्यादा है. हिरासत में यातना और अन्य पुलिस अत्याचार ऐसी समस्याएं हैं जो हमारे समाज में अब भी विद्यमान हैं. संवैधानिक घोषणाओं और गारंटियों के बावजूद, थानों में प्रभावी कानूनी प्रतिनिधित्व का अभाव गिरफ्तार या हिरासत में लिए गए व्यक्तियों के लिए एक बड़ा नुकसान है.’

उन्होंने कहा, ‘इन शुरुआती घंटों में लिए गए फैसले बाद में आरोपी का खुद का बचाव करने की क्षमता को निर्धारित करेंगे. हाल की रिपोर्टों के अनुसार पता चला कि विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को भी ‘थर्ड-डिग्री’ वाली प्रताड़ना से नहीं बख्शा जाता है.’ उन्होंने कहा कि इंटरनेट कनेक्टिविटी और लंबी, श्रमसाध्य और महंगी न्यायिक प्रक्रियाओं जैसी मौजूदा बाधाएं भारत में ‘न्याय तक पहुंच’ के लक्ष्यों को साकार करने के संकट को बढ़ाती हैं. ग्रामीण भारत और शहरी आबादी के बीच डिजिटल खाई का हवाला देते हुए CJI ने कहा, ‘जिन लोगों के पास न्याय तक पहुंच नहीं है, उनमें से अधिकांश ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों से हैं जो कनेक्टिविटी की कमी के शिकार हैं. मैंने पहले ही सरकार को पत्र लिखकर प्राथमिकता के आधार पर डिजिटल अंतराल को पाटने की आवश्यकता पर बल दिया है.’

उन्होंने सुझाव दिया कि डाक नेटवर्क का उपयोग नि:शुल्क कानूनी सहायता सेवाओं की उपलब्धता के बारे में जागरूकता फैलाने और देश के दूर-दराज के क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों तक कानूनी सेवाओं की पहुंच बढ़ाने के लिए किया जा सकता है. CJI ने वकीलों, विशेष रूप से वरिष्ठ वकीलों को कानूनी सहायता की आवश्यकता वाले लोगों की मदद करने के लिए कहा और मीडिया से नालसा के ‘सेवा के संदेश को फैलाने की क्षमता’ का उपयोग करने का आग्रह किया. (भाषा इनपुट के साथ)

Related Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

मध्य रेल पर स्वच्छता शपथ के साथ स्वच्छता पखवाड़ा-2021 शुरू

मुंबई। श्री अनिल कुमार लाहोटी, महाप्रबंधक, मध्य रेल ने दिनांक 16.9.2021 को पुणे मंडल के निरीक्षण के दौरान मिरज रेलवे स्टेशन पर...

साकीनाका में बलात्कार ओर हत्या के बाद लड़कियों की सुरक्षा को लेकर अभिभावकों में चिंता

मुंबई। महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को काफी सुरक्षित माना जाता है लेकिन पिछले दिनों साकीनाका...