27 C
Mumbai
Wednesday, October 20, 2021

क्यों गुजरात, बिहार सहित 7 राज्यों ने पीएम फसल बीमा योजना से खींचा अपना नाम; संसदीय समिति ने केंद्र से पूछा

नई दिल्ली. देश के सात राज्यों ने जिसमें भाजपा शासित गुजरात और बिहार भी शामिल हैं, पीएम फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाय) से अपना नाम वापस ले लिया है. इसके पीछ की वजह जानने के लिए संसदीय समिति ने केंद्र से सवाल पूछा कि आखिर क्यों देश के सात बड़े राज्यों ने इस योजना से अपना नाम वापस लेने का फैसला लिया है. समिति ने ये सवाल भी पूछा है कि क्या ये पीएम फसल बीमा योजना की अलोकप्रियता है या योजना में कोई बड़ी खामी रह गई है.

संसद में आई रिपोर्ट से पता चलता है कि 2016 में योजना के लागू होने के बाद से ही पंजाब कभी भी इसमें शामिल नहीं हुआ, वहीं बिहार और बंगाल ने 2018 और 2019 में अपना नाम वापस ले लिया था. इसी तरह आंध्र प्रदेश, गुजरात, तेलंगाना और झारखंड ने भी 2020 में योजना में शामिल होना नामंजूर कर दिया. केंद्र ने इसके विरोध में तर्क देते हुए बताया कि सात राज्यों को छोड़ भी दें, तो योजना में किसानों के प्रार्थना पत्रों में इज़ाफा हुआ है और जहां 2015-16 में इनकी संख्या 4.95 करोड़ थी, वहीं 2019-20 में ये संख्या बढ़कर 6.08 तक पहुंच गई है जो इस योजना की प्रसिद्धि और सफलता को ज़ाहिर करता है.

केंद्र ने बताया कि राज्य सरकारों की आर्थिक बाधाएं और सामान्य मौसम के दौरान कम दावा अनुपात इस योजना को वापस लेने के पीछे की बड़ी वजह है. हालांकि नाम वापस लेने वाले ज्यादातर राज्य खुद की योजना लागू कर रहे हैं. समिति का मानना है कि योजना से नाम वापस लेना या उसे चालू नहीं रखने से इस योजना को जिस उद्देश्य के साथ शुरू किया था, वो पूरा नहीं हो पाएगा.

सरकार का कहना है कि 2019 में खरीफ फसल के दौरान 4.4 करोड़ किसानों के प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए, वहीं 2020 में खरीफ फसल के दौरान आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, झारखंड और गुजरात के योजना को क्रियान्वित नहीं करने की वजह से यह संख्या 4.27 करोड़ रही. हालांकि बाकी के 17 राज्यों ने 2019 और 2020 में खरीफ फसल में योजना का क्रियान्वयन जारी रखा और इसलिए 2019 में 3.58 करोड़ प्रार्थना पत्रों में इज़ाफा हुआ और इसके साथ संख्या 4.27 करोड़ पहुंची. 2020 से यह योजना किसानों के लिए स्वैच्छिक कर दी गई है. इसमें किसानों को प्रीमियम का महज़ 1.5 से 5 फीसद चुकाना होता है, बाकी धनराशि राज्य सरकार और केंद्र आधा-आधा वहन करती है.

प्रीमियम की अनिवार्य कटौती नहीं

समिति ने पीएम फसल बीमा योजना के एक प्रावधान पर कड़ी आपत्ति जताई है, जिसमें कहा गया है कि ऐसे कर्जदार किसान जो इस योजना में नहीं जुड़े रहना चाहते हैं वो संबंधित बैंक शाखा में जानकारी देकर योजना से साल में किसी भी वक्त बाहर निकल सकते हैं, बस उन्हें इसके लिए संबंधित मौसम के किसानों के नामांकन से एक हफ्ते पहले इत्तिला करना होगा, ऐसा नहीं करने पर उनकी प्रीमियम राशि योजना के वर्तमान नियम के मुताबिक कट जाएगी.

समिति का कहना है कि भले ही किसानों के पास योजना से बाहर निकलने का प्रावधान है, लेकिन किसान इस जानकारी से अनभिज्ञ होते हैं और उनके अकाउंट से पैसे कट जाते हैं. समीति ने इसलिए विभाग से इस प्रावधान को बदलने की सिफारिश की है.

Related Articles

कामराज नगर में पुनः झोपडा माफिया हुए सक्रिय

सरकारी जमीन पर रोज बनते है दर्जनों झोपड़े, सदाम मामू है झोपडा माफियाओ का सरगना मुंबई। घाटकोपर मनपा एन...

गोवंडी की झोपड़पट्टियो में अधिकांश संख्या में सीसीटीवी खराब या बंद होने से पुलिस की दिक्कतें बढ़ी

मुंबई। गोवंडी शिवाजीनगर विधानसभा की अनेक झोपड़पट्टियों में कुछ दिनों से सीसीटीवी कैमरे अधिकांश संख्या में बंद होने से रफीक नगर में...

वाडिया अस्पताल में निःशुल्क स्कोलियोसिस शिविर

मुंबई। बाई जेरबाई वाडिया अस्पताल में बच्चों की हड्डीओं की जाचं कराने के लिए दो दिवसीय चिकित्सा शिबीर का आयोजन किया गया।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

कामराज नगर में पुनः झोपडा माफिया हुए सक्रिय

सरकारी जमीन पर रोज बनते है दर्जनों झोपड़े, सदाम मामू है झोपडा माफियाओ का सरगना मुंबई। घाटकोपर मनपा एन...

गोवंडी की झोपड़पट्टियो में अधिकांश संख्या में सीसीटीवी खराब या बंद होने से पुलिस की दिक्कतें बढ़ी

मुंबई। गोवंडी शिवाजीनगर विधानसभा की अनेक झोपड़पट्टियों में कुछ दिनों से सीसीटीवी कैमरे अधिकांश संख्या में बंद होने से रफीक नगर में...

वाडिया अस्पताल में निःशुल्क स्कोलियोसिस शिविर

मुंबई। बाई जेरबाई वाडिया अस्पताल में बच्चों की हड्डीओं की जाचं कराने के लिए दो दिवसीय चिकित्सा शिबीर का आयोजन किया गया।...

बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमले को रूकवाने की पहल करें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मुंबई। पिछले दो दिनों से बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों और दुर्गा पंडालों में हमले हो रहे हैं। वहां की स्थिति  यह हो...

मुंबई उपनगरीय ताइक्वांडो चैम्पियनशिप 2021 का सफलतापूर्व  आयोजन

मुंबई। 20वीं मुंबई उपनगरीय ताइक्वांडो जिला स्तरीय प्रतियोगिता गत 15,16,17 अक्टूबर 2021 को धारावी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में आयोजित की गई थी।  प्रतियोगिता...