31 C
Mumbai
Sunday, December 5, 2021

सर्वोच्च न्यायालय का अहम फैसला, मनोरोगी के बयान पर दुष्कर्म के आरोपी की बरकरार रखी सजा

नई दिल्ली. सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को एक अहम फैसला सुनाया. कोर्ट ने एक मनोरोगी महिला के साथ दुष्कर्म (Rape) के दोषी को निचली कोर्ट द्वारा सुनाई गई 10 साल की सजा बरकरार रखी है. दरअसल पीड़िता ने जब दोषी के खिलाफ कोर्ट में बयान दिया था तो वह कोर्ट की भाषा नहीं समझ पा रही थी. इस वजह से कोर्ट ने पीड़िता को सवालों के जवाब या या ना में देने की इजाजत दी थी. अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने भी उसकी गवाही को विश्वसनीय मान लिया है. वहीं दूसरी तरफ आरोपी ने महिला के बयान को लेकर सवाल उठाए हैं.

36 साल की पीड़िता मानसिक रूप से 70 फीसदी अक्षम है. कोर्ट ने पीड़िता के साथ 2015 में हुई दुष्कर्म की घटना पर यह निर्णय सुनाया. निचली कोर्ट में उसकी गवाही के वक्त उसे शपथ नहीं दिलाई जा सकी थी क्योंकि वह उसका अर्थ समझने में असमर्थ थी. उत्तराखंड के कोर्ट ने आरोपी को अक्टूबर 2016 में 10 साल के कारावास की सजा सुनाई थी. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि कूट परीक्षण के दौरान पीड़िता ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री की तस्वीरों को सही ढंग से पहचाना था.

इसके बाद दोषी व्यक्ति ने मार्च 2019 में निचली कोर्ट के फैसले को उत्तराखंड हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. उसने अपील खारिज करते हुए दोषी की सजा कायम रखी थी. इसके बाद वह सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था.

पीड़िता की गवाही विश्वसनीय

फिलहाल गुरुवार को यह मामला सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एल. नागेश्वर राव व जस्टिस अनिरुद्ध बोस की बेंच ने सुना. कोर्ट ने कहा कि सबूतों में कुछ विरोधाभास है लेकिन हमारा मत है कि पीड़िता की गवाही विश्वसनीय है और उसके आधार पर आईपीसी की धारा 376 (2)(l) के तहत दोषी को सजा सुनाई जा सकती है. इस धारा के साथ मनोरोगी या शारीरिक रूप से दिव्यांग महिला के साथ दुष्कर्म के आरोपी को दंडित किया जाता है.

दोषी के वकील ने दी ये दलील

दोषी के वकील ने कहा कि आरोपों को साबित करने के लिए कोई मेडिकल सबूत नहीं है, क्योंकि एफआईआर दर्ज करने व मेडिकल कराने में देरी हुई. वकील ने यह भी दलील दी कि अभियोजन पक्ष के गवाहों के बयानों में भी विरोधाभास है. इस पर सरकारी वकील ने पीड़िता के बयान का जिक्र करते हुए कहा कि यह स्पष्ट है कि यह दुष्कर्म का मामला है. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमने रिकॉर्ड पर रखे गए सारे सबूतों व सामग्री को सावधानीपूर्वक देखा है. अपीलकर्ता के वकील की दलीलों पर विचार के बाद हम इस बात से सहमत नहीं हैं कि निचली कोर्ट ने सजा सुनाने में चूक की. इसके साथ ही अपील खारिज कर दी गई.

Related Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

घाटकोपर में क्लीनअप मार्शल द्वारा गांधीगिरी, बिना मास्क के चलने वालों को मास्क व गुलाब देकर किया जनजागरूक

 मुंबई:घाटकोपर: विनामास्क के नागरिकों और सफाई कर्मियों के बीच विवाद अक्सर सामने आते रहे हैं। लेकिन आज घाटकोपर क्षेत्र में सफाई कर्मी...

ट्राम्बे के जाने माने समाजसेवक शब्बीर खान की घर वापसी

भाई जगताप और शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ की मौजूदगी में हुए कांग्रेस में शामिल मुंबई: आने वाले समय में...