27 C
Mumbai
Monday, November 29, 2021

मोदी के शासनकाल में लालफीताशाही और लाइसेंस राज में कमी आई: सायरस पूनावाला

पुणे. टीका निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के अध्यक्ष सायरस पूनावाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की सरकार की शुक्रवार को सराहना की. उन्होंने कहा कि मोदी के शासनकाल में लालफीताशाही और लाइसेंस राज में कमी आई है. पूनावाला ने बीते वक्त को याद किया जब करीब 50 वर्ष पहले अनुमति लेने के लिए उद्योगों को ‘मुश्किलों’ का सामना करना पड़ता था और ‘‘नौकरशाह उनका उत्पीड़न करते थे.’’ उन्होंने लोकमान्य तिलक न्यास द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में यह बात कही. उन्हें इस कार्यक्रम में लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया.

पूनावाला ने कहा कि अतीत में उन्हें मंजूरी के लिए नौकरशाहों और औषधि नियामकों के ‘‘पैरों पर गिरना’’ पड़ा, लेकिन अब स्थिति बदल गई है और इसी कारण सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) का कोविड-19रोधी टीका कोविशील्ड शीघ्र आ पाया. डॉ. पूनावाला ने कहा, ‘‘ सीरम इंस्टीट्यूट की स्थापना 1966 में मेरा विवाह विल्लू से होने के बाद हुई थी. यह पुरस्कार मैं अपनी प्यारी दिवंगत पत्नी को समर्पित करता हूं. 50 वर्ष पहले उद्योगों को मूलभूत सुविधाएं जैसे बिजली, पानी की नौकरशाहों से अनुमति मिलने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता था. नौकरशाह उनका उत्पीड़न करते थे….वैसे मुझे यह सब नहीं कहना चाहिए.’’

ये भी पढ़ें : कौन है वो IPS अधिकारी जिसके खिलाफ महाराष्ट्र पुलिस ने Look Out Circular जारी किया

ये भी पढ़ें : Corona Third Wave: बच्‍चों के लिए दिल्‍ली के सबसे बड़े बाल अस्‍पतालों में ऐसे हैं इंतजाम

उन्होंने कहा कि लाइसेंस राज समाप्त हुआ और इसकी वजह से कोरोना वायरस रोधी टीका जल्दी से आ पाया. एसआईआई के अध्यक्ष ने कहा, ‘‘ हम अपना टीका इतनी जल्दी लॉन्च कर पाए उसके पीछे यकीनन एक वजह अनुदान या अनुमति मिलना रही, लाइसेंस राज समाप्त होने से उद्योगों को प्रोत्साहन मिला. हमारे पास एक औषधि नियामक है जो शाम को कार्यालय का वक्त समाप्त होने के बाद भी जवाब देता है. अब ‘मस्का लगाने’ की जरूरत नहीं है.”

पुरस्कार के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हालांकि उन्हें अमेरिका, ब्रिटेन और अतीत में कई अन्य देशों से पुरस्कार मिला है लेकिन उनके लिए यह बहुत मायने रखता है. इस अवसर पर न्यास के अध्यक्ष दीपक तिलक ने कहा, ‘‘अस्थायी और चुनौतीपूर्ण स्थितियों में एसआईआई ने स्वदेशी टीका निर्माण में कठिन प्रयास किए, जिससे कोविड-19 से जुड़े भय को कम करने में मदद मिली. यह डॉ. सायरस पूनावाला और उनकी टीम के प्रयासों का नतीजा है.’’ पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस नेता सुशील कुमार शिंदे ने भी पूनावाला की सराहना की.

Related Articles

शादी करने से इंकार करने पर बलात्कार के बाद हुई हत्या

प्रेमी ने दोस्त के साथ मिलकर 20 वर्षीय युवती के साथ किया बलात्कार व हत्या, विनोवा भावे नगर पुलिस की हद का...

एक मोबाइल की चोरी में पकड़ा गया आरोपी

6 मामलों का हुआ खुलासा सभी मोबाइल बरामद मुंबई। एक 70 वर्षीय बृद्ध के मोबाइल चोरी की घटना की...

मेट्रो स्टेशन का नाम रामबाग चांदिवली किए जाने की मांग

मुंबई। मेट्रो परियोजना के तहत जोगेश्वरी से विक्रोली तक के मार्ग पर मेट्रो निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। इस मार्ग...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

शादी करने से इंकार करने पर बलात्कार के बाद हुई हत्या

प्रेमी ने दोस्त के साथ मिलकर 20 वर्षीय युवती के साथ किया बलात्कार व हत्या, विनोवा भावे नगर पुलिस की हद का...

एक मोबाइल की चोरी में पकड़ा गया आरोपी

6 मामलों का हुआ खुलासा सभी मोबाइल बरामद मुंबई। एक 70 वर्षीय बृद्ध के मोबाइल चोरी की घटना की...

मेट्रो स्टेशन का नाम रामबाग चांदिवली किए जाने की मांग

मुंबई। मेट्रो परियोजना के तहत जोगेश्वरी से विक्रोली तक के मार्ग पर मेट्रो निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। इस मार्ग...

पूर्व बेस्ट समिति के अध्यक्ष व वार्ड क्रमांक153 के नगरसेवक अनिल पाटणकर के प्रयास से मतदाता सूची में नाम पंजीकरण मुहिम शुरू

मुंबई। चेंबूर के घाटला गांव वार्ड क्रमांक153 में पूर्व बेस्ट समिति के अध्यक्ष तथा नगरसेवक अनिल पाटणकर के प्रयास से मतदाता सूची...

एनसीबी ने ड्रग्स की कार्रवाई का खुलासा करने से किया इनकार!

मुंबई। केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत काम करने वाले ब्यूरो ऑफ नारकोटिक्स कंट्रोल (एनसीबी) ने आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को पिछले तीन...