29 C
Mumbai
Friday, October 22, 2021

सिविल मजिस्ट्रेट के पद को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम बयान, कायम रखा राजस्थान हाईकोर्ट का आदेश, जानिए पूरा मामला

नई दिल्ली. उच्चतम न्यायालय ने कहा कि सर्वोच्च नैतिक आधार रखने वाले न्यायाधीश न्याय देने की व्यवस्था में जनता के विश्वास का निर्माण करने में लंबा सफर तय करते हैं और न्यायिक अधिकारी की साख और पृष्ठभूमि के बारे में आम आदमी की धारणा ‘‘महत्वपूर्ण’’ है. न्यायालय ने कहा कि किसी भी स्तर पर न्यायिक अधिकारी के पद पर ‘‘सबसे सटीक मानक’’ लागू होते हैं.

न्यायमूर्ति के एम जोसेफ और न्यायमूर्ति पी एस नरसिम्हा की पीठ ने राजस्थान उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर यह फैसला दिया. याचिकाकर्ता ने उस फैसले के खिलाफ यह अर्जी दायर की थी, जिसमें कहा गया था कि वह सिविल न्यायाधीश के पद पर नियुक्त होने के योग्य नहीं है.

रघुवर दास को JMM का पलटवार- विधायकी हारने वाले तय नहीं कर सकते कि कौन सक्षम है और कौन अक्षम

शीर्ष न्यायालय ने कहा कि न्यायाधीश राज्य के सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों में से एक का निर्वहन करते हैं यानी नागरिकों से जुड़े विवादों का हल करते हैं और सिविल न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट का पद ‘‘उच्च महत्व’’ का होता है क्योंकि देश में सबसे ज्यादा मुकदमे निचले स्तर पर ही दायर किए जाते हैं.

ओडिशा: हाथी को बचाने के दौरान पलटी नाव, रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकार की मौत

पीठ ने 16 सितंबर को दिए अपने आदेश में कहा, ‘‘किसी भी स्तर पर न्यायिक अधिकारी के पद पर सबसे सटीक मानक लागू होते हैं. इसकी वजहें स्पष्ट हैं. न्यायिक पद पर बैठा व्यक्ति राज्य के सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों में से एक का निर्वहन करता है यानी कि देश के लोगों से जुड़े विवादों को हल करता है. सर्वोच्च नैतिक आधार रखने वाले न्यायाधीश न्याय देने की व्यवस्था में जनता के विश्वास का निर्माण करने में एक लंबा सफर तय करते हैं.’’

बेटे ने बीमार मां के साथ किया फ्रॉड! लॉटरी में मिले 2 करोड़ रुपये से खेल डाला लाखों का जुआ

मामले के तथ्यों का जिक्र करते हुए पीठ ने कहा कि व्यक्ति के खिलाफ कुछ प्राथमिकियां पहले दर्ज की गई और समझौते के आधार पर उसे बरी किया गया. पीठ ने कहा कि दो प्राथमिकियों में अंतिम रिपोर्ट दाखिल की गई और ‘‘बाइज्जत बरी’’ होने की अनुपस्थिति में आपराधिक मामलों में किसी अधिकारी की कथित संलिप्तता से न्याय प्रणाली में जनता का विश्वास कम हो सकता है.

कोविड-19 महामारी से निपटने में भारत, अमेरिका ने एक दूसरे के सहयोग पर जताया गर्व

पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालय इस पद पर सबसे योग्य व्यक्ति की सिफारिश करने के लिए बाध्य है. उसने कहा, ‘‘किसी सिविल न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट का पद न्याय प्रणाली की पिरामिड संरचना में सबसे निचले क्रम का होने के बावजूद के बावजूद सबसे महत्वपूर्ण होता है. चरित्र को केवल सक्षम प्राधिकारी द्वारा प्रमाणित करने तक सीमित होने के रूप में नहीं समझा जा सकता है.’’

व्हाइट हाउस से UN तक भारत ने कैसे जीती बाजी, तालिबान का पक्ष लेने पर पाकिस्तान को घेरा

न्यायालय ने कहा कि ज्यादातर मामले उच्चतम न्यायालय तक नहीं पहुंचते और सिविल न्यायाधीश या मजिस्ट्रेट के जरिए ही आम आदमी का न्याय प्रणाली से संपर्क होता है. न्यायिक अधिकारी की साख और पृष्ठभूमि के बारे में आम आदमी की धारणा ‘‘महत्वपूर्ण’’ है.

जातिगत जनगणना को लेकर तेजस्वी ने देश के 33 बड़े नेताओं को लिखा पत्र, केंद्र सरकार को लेकर कही यह बात

राजस्थान उच्च न्यायालय, जोधपुर ने नवंबर 2013 में एक अधिसूचना जारी करते हुए सिविल न्यायाधीश (जूनियर डिवीजन) के पद पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए थे और इस व्यक्ति ने इस पद पर आवेदन दिया था. जब इस व्यक्ति की पृष्ठभूमि की जांच की गई, तो उसने खुद कुछ आपराधिक मामलों में फंसाए जाने के बारे में सूचना दी. जुलाई 2015 में उच्च न्यायालय की समिति ने उसके नाम की सिफारिश न करने का फैसला दिया.

इसके बाद इस शख्स ने उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की, जिसने उसे राजस्थान उच्च न्यायालय, जोधपुर के पंजीयक के समक्ष अर्जी देने की छूट दी. बाद में उच्च न्यायालय की निचली न्यायिक समिति ने फिर से इस मामले पर विचार किया और उसकी अर्जी खारिज कर दी.

इसके बाद उसने उच्च न्यायालय के एक समक्ष एक और याचिका दायर की. उच्च न्यायालय ने कहा कि जब उसने पद पर भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन दिया था, तो उसके खिलाफ कोई आपराधिक मामला लंबित नहीं था. उच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि उसके खिलाफ दर्ज चार मामलों में से दो जांच के बाद झूठे पाए गए और अन्य दो मामलों में अपराध मामूली चोटों के थे, जिसमें पक्षों के बीच समझौता कर लिया गया और उसे बरी कर दिया गया. उच्च न्यायालय ने कहा कि यह व्यक्ति अनुसूचित जनजाति का है और समिति का फैसला, निर्णय की भावना के ‘‘अनुरूप नहीं’’ है.

Related Articles

लखनऊ में हुआ “मैं कलाकार हूं” का प्रीमियर शो, चन्द्रभाष सिंह और धर्मेन्द्र कुमार ने की नई पहल

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदी शॉर्ट मूवी "मैं कलाकार हूं"का प्रीमियर किया गया। इस शॉर्ट मूवी का निर्माण "विजय बेला...

‘पियवा किसनवा’ ने एक दिन में हासिल किए 1 मिलियन से ज्यादा व्यूज, चला सबा खान का जलवा

भोजपुरी सिनेमा में अपनी गायकी के दम पर अपनी पहचान बना चुकी शिल्पी राज के फॉलोअर्स करोड़ों की संख्या में हैं। शिल्पी...

पैरावेटनरी वर्कर संघ के प्रतिनिधिमंडल ने दिया 45000 रूपए का आर्थिक सहयोग

महाराजगंज। जनपद महाराजगंज दिनांक 20 दस 2021 पैरा वेटरनरी वर्कर संघ उत्तर प्रदेश का एक प्रतिनिधिमंडल स्वर्गीय श्री सीताराम चौधरी (पैरावेट) पशु...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

लखनऊ में हुआ “मैं कलाकार हूं” का प्रीमियर शो, चन्द्रभाष सिंह और धर्मेन्द्र कुमार ने की नई पहल

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदी शॉर्ट मूवी "मैं कलाकार हूं"का प्रीमियर किया गया। इस शॉर्ट मूवी का निर्माण "विजय बेला...

‘पियवा किसनवा’ ने एक दिन में हासिल किए 1 मिलियन से ज्यादा व्यूज, चला सबा खान का जलवा

भोजपुरी सिनेमा में अपनी गायकी के दम पर अपनी पहचान बना चुकी शिल्पी राज के फॉलोअर्स करोड़ों की संख्या में हैं। शिल्पी...

पैरावेटनरी वर्कर संघ के प्रतिनिधिमंडल ने दिया 45000 रूपए का आर्थिक सहयोग

महाराजगंज। जनपद महाराजगंज दिनांक 20 दस 2021 पैरा वेटरनरी वर्कर संघ उत्तर प्रदेश का एक प्रतिनिधिमंडल स्वर्गीय श्री सीताराम चौधरी (पैरावेट) पशु...

भावुक करने वाली है यश कुमार की फिल्‍म ‘बिटिया छठी माई के 2’ का ट्रेलर

कथा प्रधान फिल्‍मों को लेकर आने वाले यूनिक एक्‍शन स्‍टार यश कुमार की फिल्‍म ‘बिटिया छठी माई के 2’ का ट्रेलर रिलीज...

बड़ी खबर: मुंबई में फैली दहशत, 60 मंजिला इमारत में भीषण आग… तेजी से फैलती जा रही

मुंबई। महाराष्ट्र स्थित मुंबई से इस वक्त एक बड़ी खबर सामने आई है| मुंबई में दहशत का माहौल पैदा हो गया है|...