34 C
Mumbai
Saturday, November 27, 2021

कैंडिडेट का क्रिमिनल रिकॉर्ड ना बताना बीजेपी, कांग्रेस समेत 10 पार्टियों को पड़ा भारी, SC ने लगाया 5 लाख तक जुर्माना

नई दिल्ली. बिहार चुनाव में उम्मीदवारों की अपराधिक पृष्ठभूमि सार्वजनिक न करने पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को राजनीतिक दलों पर जुर्माना लगाया. इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने चुनाव सुधार को लेकर चुनाव आयोग को तीन अहम निर्देश भी दिए. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार चुनाव के दौरान प्रत्याशियों के आपराधिक रिकॉर्ड सार्वजनिक न करने के चलते भाजपा सहित दस पार्टियों को अवमानना का दोषी मानते हुए जुर्माना लगाया है.

कोर्ट ने सीपीएम और एनसीपी पर 5-5 लाख का जुर्माना लगाया. इन पर कोर्ट के आदेश को बिलकुल दरकिनार करने के लिए जुर्माना लगाया गया है. वहीं, जेडीयू, आरजेडी, एलजेपी, कांग्रेस, बीएसपी, सीपीआई पर 1-1 लाख का जुर्माना लगाया है. इन पर कोर्ट के आदेश का ठीक से पालन न करने के लिए जुर्माना लगाया गया है. इसके अतिरिक्त आरएलएसपी और बीजेपी पर भी जुर्माना लगाया गया है.

CM नीतीश ने 2705 करोड़ रुपये की परियोजनाआों का शुभारंभ किया, बिहार में कोरोना थर्ड वेव पर कही यह बात

मतदान से पहले उम्मीदवारों की अपराधिक पृष्टभूमि सार्वजनिक करने के लिया सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को तीन महत्वपूर्ण निर्देश दिए. ये आदेश लोकसभा और विधानसभा के चुनाव के लिए लागू होंगे. कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा है कि एक मोबाइल एप बनाया जाए, जिसमें चुनाव लड़ रहे नेताओं के अपराधिक मामलों से जुड़ी जानकारी होगी. उसमें हर उम्मीदवार के बारे में बताया जाएगा कि उसके खिलाफ कितने अपराधिक मामले दर्ज है, किस तरह के अपराध का मुकदमा है और उनकी स्थिति क्या है.

Marburg Virus: कोरोना की तरह फैलने वाला ‘मारबर्ग’ वायरस है दुनिया के लिए कितना बड़ा खतरा? जानें सबकुछ

कोर्ट ने कहा की एप ऐसा हो कि एक ही जगह सारे नेताओं की जानकारी मिल जाए. कोर्ट ने चुनाव आयोग को एक अलग विभाग बनाने को भी कहा है. इस विभाग का काम आम लोगों से शिकायत लेना और उसका निपटारा करना होगा. अगर कोई उम्मीदवार अपनी जानकारी छुपाता है, तो इसी विभाग में शिकायत दर्ज होगी.

चुनाव सुधार और अपराध पर सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले फरवरी 2020 में आदेश दिया था. उस आदेश के मुताबिक सभी राजनीतिक दलों को अपने उम्मीदवार के अपराधिक मामलों की जानकारी नामांकन से दो हफ्ते पहले देनी थी, लेकिन आज अदालत ने इस आदेश में बदलाव किया. कोर्ट ने कहा की उम्मीदवार के चयन के 48 घंटे के अंदर राजनीतिक दलों को नेताओं की पृष्ठभूमि की जानकारी अपने वेबसाइट पर देनी होगी. इसके बाद जनता देखेगी कि ऐसे व्यक्ति को वोट देना है या नहीं.

Related Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

सांसद मनोज कोटक का सिलसिलेवार दौरा, मुंबईकरों को दी एक बड़ी खुशखबरी

मुंबई। ईशान्य मुंबई भाजपा सांसद मनोज कोटक ने सेंट्रल रेलवे के अधिकारियों के साथ आज अपने संसदीय क्षेत्र में आने वाले रेलवे...

राबिया पटेल का “वॉक फॉर कॉस” कार्यक्रम लोगों के लिए प्रेरणा : जेनेट अग्रवाल

मुंबई। मुंबई के जुहू इलाके में स्थित जेडब्ल्यू मैरियट होटल में "वॉक फॉर कॉस" कार्यक्रम का आयोजन 25 नवंबर की रोज किया...

26/11 के शहीद जवानों व नागरिकों को श्रंद्धाजलि

मुंबई। शिवसेना घाटकोपर पूर्व विधानसभा के सौजन्य से ईशान्य मुंबई विभाग प्रमुख राजेंद्र राऊत के मार्गदर्शन में 26/11 आतंकी हमले में शहीद...

राकंपा महिला आघाडी सम्मेलन संपन्न

कइयों की हुई नियुक्ति मुंबई। प्रदेश महासचिव व पनवेल जिला निरिक्षक भावनाताई घाणेकर की निर्देश व मार्गदर्शन में नई...

फिल्म ‘बेगुनाह’ का पोस्ट प्रोडक्शन का काम जोरो पर

स्कामखी एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनी भोजपुरी फ़िल्म बेगुनाह का पोस्ट प्रोडक्शन का काम तेजी से चल रहा है और बहुत जल्द...