31 C
Mumbai
Sunday, December 5, 2021

रणनीति या फिसली ज़ुबान? मुकुल रॉय ने फिर कहा- बंगाल के उपचुनाव में BJP की होगी जीत

(कमालिका सेनगुप्ता)

कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) के नेता मुकुल रॉय (Mukul Roy) ने एक बार फिर से कहा है कि पश्चिम बंगाल के कृष्णानगर विधनसभा सीट पर होने वाले उप चुनाव में बीजेपी की जीत होगी. ये एक हफ्ते में दूसरा मौका है जब उन्होंने बीजेपी के लिए जीत की बात कही है. बता दे कि रॉय को इस बार भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव में जीत मिली थी. जीत के कुछ ही दिनों बाद वो तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए थे. रॉय ने कहा है कि बीजेपी की जीत होगी. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि टीएमसी त्रिपुरा में 2023 के विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करेगी. इस बीच, भाजपा ने लोक लेखा समिति (पीएसी) के अध्यक्ष के रूप में मुकुल रॉय की विवादास्पद नियुक्ति को चुनौती देने के लिए अदालत का रुख किया है.

ये पूछे जाने पर कि क्या वो कृष्णानगर से फिर से जीतेंगे, रॉय ने कहा, ‘हां, भाजपा से चुनाव लड़ने पर जीतेंगे. टीएमसी से मुझे नहीं पता.’ ये पूछे जाने पर कि उन्हें पीएसी में कैसे मनोनीत किया गया, उन्होंने कहा, ‘मैं भाजपा से पीएसी अध्यक्ष हूं. आप सवाल पूछें मैं बीजेपी के रूप में जवाब दूंगा.’ उन्होंने तुरंत कहा कि वो टीएमसी में हैं.

बयान से खलबली

मुकुल रॉय के बयान से राजनीतिक गलियारों में खलबली मच गई है. उनके बयान का वीडियो वायरल हो गया है. 6 अगस्त को मुकुल रॉय ने नदिया जिले में अपने कृष्णानगर निर्वाचन क्षेत्र का दौरा किया. टीएमसी के उपचुनाव के लिए चुनाव आयोग पहुंचने पर उनकी प्रतिक्रिया पूछे जाने पर उन्होंने अचानक कहा, ‘उपचुनाव में, मैं भाजपा की ओर से कह सकता हूं कि टीएमसी हार जाएगी.’ जिस वक्त वो ये बयान दे रहे थे उनका निजी सहायक इसे ठीक करने की कोशिश कर रहा था.

बेटे ने बयान पर दी सफाई

अपनी ग़लतियों को महसूस करते हुए, रॉय ने खुद को सही करते हुए कहा था कि उनका मतलब वास्तव में टीएमसी से था. बाद में रॉय के बेटे सुभ्रांशु ने भी अपने पिता की बयान पर सफाई दी और कहा कि वो पत्नी की मौत के बाद डिप्रेशन में हैं और इस दौरान उनके शरीर में कुछ केमिकल का संतुलन बिगड़ गया है. उन्होंने कहा, ‘मेरे पिता के शरीर में अत्यधिक सोडियम पोटेशियम असंतुलन है, जिससे बहुत सारी समस्याएं हो रही हैं. वो सब कुछ भूल रहे हैं. इसकी शुरुआत मेरी मां की मौत से हुई है. हम वास्तव में उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं.लिहाजा उनके का कोई मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए.’

क्या कहते हैं राजनीतिक पंडित?

राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक ये रॉय की भाजपा से निपटने की रणनीति हो सकती है. दलअसल वो अपने पीएसी नामांकन और विधायक पद को लेकर खुद को मुश्किल में देख रहे हैं. भाजपा उनकी पीएसी अध्यक्षता के खिलाफ अदालत में गई है और एक विधायक के रूप में उनकी योग्यता पर विधानसभा में सुनवाई चल रही है, जिसका बीजेपी भी विरोध कर रही है. क्या तकनीकी रूप से ये दिखाने की रॉय की रणनीति है कि वो भाजपा में हैं, विश्लेषकों ने अनुमान लगाया है कि उन्होंने स्पष्ट रूप से उत्तर दिया कि उन्हें भाजपा से अध्यक्ष पद के लिए नामांकित किया गया है. बंगाल सत्ता के गलियारों में ये चर्चा चल रही है कि क्या रॉय की जुबान फिसल गई या फिर ये उनकी रणनीति का हिस्सा है.

ये भी पढ़ें:- तालिबान की भारत को खुली चेतावनी- ‘अफगानिस्तान में सेना भेजी तो अच्छा नहीं होगा’

TMC से बीजेपी और फिर TMC

टीएमसी के वरिष्ठ नेता तापस रॉय ने रॉय की गलती पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. जबकि भाजपा ने कहा कि लोग इस तरह के बयानों पर खुद फैसला करेंगे. मुकुल रॉय ने 2017 में ममता बनर्जी की पार्टी को छोड़ दिया था और वो बीजेपी में शामिल हो गए थे. इस साल 2 मई को विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के लगभग एक महीने बाद वो टीएमसी में लौट आए. हालांकि आधिकारिक तौर पर वो अभी भी कृष्णानगर उत्तर के भाजपा विधायक हैं. उन्हें निर्वाचन क्षेत्र और राज्य विधानसभा की लोक लेखा समिति (पीएसी) का अध्यक्ष बनाया गया है.

त्रिपुरा जाने को तैयार

रॉय ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी के कहने पर वो तृणमूल कांग्रेस के लिए काम करने के लिए त्रिपुरा जाने को तैयार हैं. उन्होंने कहा, ‘पार्टी जो कहेगी, मैं करूंगा. त्रिपुरा में भाजपा सही काम नहीं कर रही है. हमारी पार्टी वहां अगले चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी.’ भाजपा विधायक और विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि रॉय जब भाजपा के टिकट पर जीतकर शामिल होने के लिए टीएमसी कार्यालय पहुंचे तो उनका बहुत धूमधाम से स्वागत किया गया. ‘अब अगर वो इस तरह के बयान देते हैं, तो ये राज्य के लोगों को तय करना करना है. उन्हें राज्य सरकार द्वारा उच्च सुरक्षा प्रदान की गई थी, उन्हें पीएसी अध्यक्ष बनाया गया था. अब देखिए टीएमसी क्या करती है.’

नियुक्ति को चुनौती

भाजपा ने मुकुल रॉय को को दलबदल विरोधी कानून के तहत विधानसभा के सदस्य के रूप में अयोग्य घोषित करने और पीएसी अध्यक्ष के पद से हटाने की मांग की है. टीएमसी नेतृत्व कह रहा है कि रॉय भाजपा विधायक हैं और इसलिए पीएसी अध्यक्ष के रूप में उनकी नियुक्ति से तकनीकी आधार पर कोई समस्या नहीं होगी.

Related Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

घाटकोपर में क्लीनअप मार्शल द्वारा गांधीगिरी, बिना मास्क के चलने वालों को मास्क व गुलाब देकर किया जनजागरूक

 मुंबई:घाटकोपर: विनामास्क के नागरिकों और सफाई कर्मियों के बीच विवाद अक्सर सामने आते रहे हैं। लेकिन आज घाटकोपर क्षेत्र में सफाई कर्मी...

ट्राम्बे के जाने माने समाजसेवक शब्बीर खान की घर वापसी

भाई जगताप और शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ की मौजूदगी में हुए कांग्रेस में शामिल मुंबई: आने वाले समय में...