27 C
Mumbai
Friday, September 17, 2021

ANALYSIS: नेतृत्व के मुद्दे पर बीजेपी के आगे ढीली है कांग्रेस, मजबूत लीडरशिप से आता है पार्टी में अनुशासन

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) के खिलाफ अपने ताजा बयान में कहा, ‘मैंने आलाकमान से कहा है कि अगर आप मुझे फैसले नहीं लेने देंगे तो ‘मैं इट नाल इट बाजा दूंगा.’ कांग्रेस (Congress) ने तमाम मांगों के बीच अपने किसी भी मुख्यमंत्री को नहीं बदला लेकिन तीनों राज्यों में पार्टी उन नेताओं के हाथ में हैं जो मुख्यमंत्री को सार्वजनिक रूप से चुनौती देते हैं ऐसा करके वे पार्टी नेतृत्व के अधिकार पर भी सवाल उठा रहे हैं. बीते 2 साल से कांग्रेस के पास स्थायी अध्यक्ष नहीं है. हाईकमान के दिशा निर्देशों के बाद भी गुटबाजी और सार्वजनिक टिप्पणियां हो रही हैं. ऐसे में अनुशासनहीनता की आशंका बढ़ गई है.

हालांकि भाजपा ने इस साल तीन मुख्यमंत्री बदले हैं, जिनमें दो उत्तराखंड और एक कर्नाटक का शामिल हैं. इस पूरी प्रक्रिया में बहुत कम सार्वजनिक टीका-टिप्पणी हुई. भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने News18 को बताया- ‘राजनीति में, महत्वाकांक्षाएं होंगी और महत्वाकांक्षी होंगे, वो अपना मुद्दा पार्टी फोरम पर रखेंगे. लेकिन पार्टी का अनुशासन सर्वोच्च होता है और पार्टी में एक बार शीर्ष नेतृत्व के निर्णय लेने के बाद, सभी उसका पालन करने के साथ ही स्वीकार करते हैं. हमने इसे उत्तराखंड के साथ-साथ कर्नाटक में भी देखा. किसी भी अन्य उम्मीदवार ने मुख्यमंत्री पद के लिए पसंद की आलोचना नहीं की.’

भाजपा के एक अन्य वरिष्ठ नेता ने नरेंद्र मोदी के मजबूत नेतृत्व को पार्टी में ‘अनुशासन के लिए बाध्यकारी शक्ति’ बताते हुए कर्नाटक का उदाहण दिया. उन्होंने कहा बीएस येदियुरप्पा के सीएम पद से हटने के बाद बड़ी शांति से सत्ता का स्थानांतरण हुआ. नेता ने कहा – ‘क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि कांग्रेस के तीन राज्यों में से किसी में भी ऐसा होगा? मुख्य मुद्दा यह है कि कांग्रेस नेतृत्व कमजोर है और इसलिए पार्टी के नेता सार्वजनिक रूप से नेतृत्व पर निशाना साध सकते हैं.’

छत्तीसगढ़, पंजाब और राजस्थान में क्या हो रहा है?

उदाहरण के लिए राहुल गांधी ने दो दिन पहले दिल्ली में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और टीएस सिंह देव के साथ अपनी बैठक के दौरान उन्हें अपने मतभेदों को दूर करने के लिए कहा था. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने राज्य में नेतृत्व परिवर्तन से इनकार किया था. इसके साथ ही बघेल को अपने मंत्रिमंडल में देव को और अधिक महत्व देने के लिए कहा था. यह स्पष्ट है कि वह पंजाब जैसी स्थिति को दोहराना नहीं चाहते थे जहां सिद्धू खुले तौर पर कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ लड़ाई में दिख रहे हैं. लेकिन रायपुर पहुंचने पर बघेल ने खुलकर टिप्पणी की और बाद में सीएम बनने के दावे पर कहा- टीम का हर सदस्य कैप्टन बनने की ख्वाहिश रखता है. बघेल को आज फिर दिल्ली तलब किया गया है.

पंजाब में हाईकमान और पंजाब प्रभारी हरीश रावत की बार-बार गुहार लगाने के बाद भी नवजोत सिंह सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह से भिड़ने का कोई मौका नहीं छोड़ा. इस हफ्ते, सिद्धू ने सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाने की मांग करते हुए 20 विधायकों के एक समूह से मुलाकात की. पंजाब सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री ने News18 को बताया, ‘अकाली दल और आप से लड़ने के बजाय, हम अब तक आपस में लड़ने में व्यस्त हैं क्योंकि सिद्धू CM की कुर्सी को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं.’

राजस्थान में सचिन पायलट ने अब तक सार्वजनिक रूप से एक सम्मानजनक स्थिति बनाए रखी है, लेकिन उनके धैर्य की परीक्षा ली जा रही है क्योंकि लगभग दो महीने से पार्टी द्वारा मंत्रिमंडल में फेरबदल के लिए विचार-विमर्श के परिणामस्वरूप कोई कार्यवाही नहीं हुई है. पायलट अगले महीने राज्य में विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले अपने वफादारों को मंत्रिमंडल में शामिल करने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अब तक नहीं माने हैं. स्थिति मध्य प्रदेश की तरह दिख रही है, जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया का सब्र खत्म हो गया और उन्होंने अपने 20 वफादार विधायकों के साथ भाजपा में शामिल हो गए और कमलनाथ की सरकार गिर गई.

पार्टी को मिले बहुमत को देखते हुए ऐसा लगता है कि कांग्रेस शासित तीन राज्यों में सरकार गिराने का कोई खतरा नहीं है. लेकिन सार्वजनिक विवाद के चलते पार्टी के लिए पंजाब में चुनाव से पहले मुसीबत खड़ी हो सकती हैं. राज्य में चुनाव सिर्फ 5 महीने दूर हैं. पंजाब में खींचतान टिकट वितरण के दौरान बढ़ सकती है और चुनाव में कांग्रेस के लिए स्थिति खराब हो सकती है.

Related Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

मध्य रेल पर स्वच्छता शपथ के साथ स्वच्छता पखवाड़ा-2021 शुरू

मुंबई। श्री अनिल कुमार लाहोटी, महाप्रबंधक, मध्य रेल ने दिनांक 16.9.2021 को पुणे मंडल के निरीक्षण के दौरान मिरज रेलवे स्टेशन पर...

साकीनाका में बलात्कार ओर हत्या के बाद लड़कियों की सुरक्षा को लेकर अभिभावकों में चिंता

मुंबई। महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को काफी सुरक्षित माना जाता है लेकिन पिछले दिनों साकीनाका...