27 C
Mumbai
Friday, September 17, 2021

लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने से लोगों में खुशी, बोले, 'अब होगा विकास'

लेह/करगिल: लद्दाख (Ladakh) के केंद्र शासित प्रदेश (Union territory) बन जाने पर क्षेत्र में राजनीतिक दलों की ओर से मिलीजुली प्रतिक्रियाएं मिली हैं. करगिल (Kargil) में नेताओं ने ‘काला दिन’ मनाया जबकि लेह में नेता इसे विकास के एक अवसर के तौर पर देख रहे हैं. जम्मू कश्मीर (Jammu kashmir) और लद्दाख को केंद्र सरकार के पांच अगस्त के फैसले के अनुसार विभाजित कर दो केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है. केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हटाने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने का फैसला लिया था.

71 साल से इंतजार कर रहे थे लोग

लद्दाख से बीजेपी सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल ने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोगों ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने को स्वीकार कर लिया है. नामग्याल अपनी ‘पिक्चर अभी बाकी है’ टिप्पणी से लोकसभा में राज्य के विभाजन पर चर्चा के दौरान सुर्खियों में आए थे.

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘लद्दाख के लोग पिछले 71 वर्षों से इसका इंतजार कर रहे थे. हम इस कदम को समावेशी विकास योजना के तौर पर देखते हैं. इस क्षेत्र में पर्यटन के अलावा सीमा सुरक्षा, रक्षा, परिस्थितिकी तंत्र और औषधीय संयंत्रों के लिए असीम संभावनाएं हैं.’ उन्होंने कहा, ‘इसे एक केंद्र शासित प्रदेश बनाने से बुनियादी ढांचा विकास के लिए और अवसर मिलेंगे.’

करगिल में हो रहा विरोध

वहीं, करगिल शहर में बुधवार से बाजार बंद हैं और राजनीतिक तथा धार्मिक समूहों की एक संयुक्त कार्रवाई समिति ने 31 अक्टूबर को ‘काले दिन’ के रूप में मनाया. करगिल पर्वतीय विकास परिषद के पूर्व अध्यक्ष असगर अली करबलाई ने लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने पर नाखुशी जताई और कहा, ‘हम इस फैसले के पूरी तरह खिलाफ हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हम लगातार इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और पिछले तीन दिनों से लोग सड़कों पर हैं, बाजार बंद हैं और सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद हैं.’ करबलाई ने कहा कि करगिल के लोग अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने के खिलाफ हैं और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटना ‘हमारे हितों के खिलाफ हैं.’

उन्होंने कहा, ‘यह लोगों की सहमति के बिना थोपा गया फैसला है. अब हमारे पास कोई विधानसभा या शक्तियां नहीं रही.’ उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में पुडुचेरी की तरह विधानसभा होगी जबकि लद्दाख में चंडीगढ़ की तरह कोई विधानसभा नहीं होगी और दोनों का नेतृत्व अलग-अलग उपराज्यपाल करेंगे.

कुछ लोगों में आशंकाएं

लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (करगिल) के अध्यक्ष और सीईसी फिरोज अहमद खान ने कहा, ‘हालांकि इस कदम से विकास होने की उम्मीद है लेकिन लोगों को शिक्षा और नौकरियों को लेकर आशंकाएं हैं. वे नौकरियों के सिलसिले में और सुरक्षा चाहते हैं.’ उन्होंने लद्दाख के करगिल मंडल में बच्चों के लिए आरक्षण की वकालत करते हुए कहा, ‘अगर शिक्षा और अन्य क्षेत्र सभी के लिए खुले हैं तो लोगों को आशंकाएं हैं कि क्या उनके बच्चे अच्छी नौकरियां हासिल कर सकेंगे.’

फैसले का स्‍वागत

करगिल के पूर्व विधान परिषद सदस्य आगा सैयद अहमद रजवी ने कहा, ‘करगिल से भेदभाव किया गया है और उसे फिर किनारे कर दिया गया है. इससे पहले भी हम अलग हुए थे और अब हमारी इच्छा के विरुद्ध ऐसा किया गया.’

उन्होंने कहा, ‘नागरिक यह विभाजन नहीं चाहते. हम आजादी मांगने वाले नहीं हैं, हम एकता और न्याय चाहते हैं. अब जबकि यह विभाजन हो गया है तो करगिल तथा लेह के बीच संतुलन बनाना चाहिए.’ नुब्रा घाटी के पूर्व विधायक डेल्डन नामग्याल ने कहा, ‘हम केंद्र शासित प्रदेश के फैसले का स्वागत करते हैं लेकिन हम अपनी संस्कृति तथा आर्थिक आयामों की रक्षा करने के लिए छठी अनुसूची में शामिल किए जाने की उम्मीद कर रहे हैं.’

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने पर क्या-क्या बदल गया

Related Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

माहिम बीच का बदला नजारा

मुंबई। मुंबई के ऐतिहासिक भूमि और मछुआरों का गढ़ माहिम के बीच (समुन्द्र तटीय क्षेत्र) को अब पर्यटन की दृष्टि से बेहतरीन...

‘लिपस्टिक का Color चेंज किजिए’ में दिखेगा नीलकमल सिंह और प्रगति भट्ट का जलवा

हो जाईये तैयार आ रहा है भोजपुरी इंडस्ट्री के बवाल सिंगर नीलकमल सिंह और सुपर सिंगर प्रियंका सिंह की आवाज में नया...

घाटकोपर पूर्व के श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का रजत जयंती वर्ष

मुंबई। घाटकोपर पूर्व के राजावाडी स्थित श्री विघ्नेश्वर मित्र मंडल के गणेशोत्सव का इस बार २५वा वर्ष है। जिसके कारण रजत जयंती...

मध्य रेल पर स्वच्छता शपथ के साथ स्वच्छता पखवाड़ा-2021 शुरू

मुंबई। श्री अनिल कुमार लाहोटी, महाप्रबंधक, मध्य रेल ने दिनांक 16.9.2021 को पुणे मंडल के निरीक्षण के दौरान मिरज रेलवे स्टेशन पर...

साकीनाका में बलात्कार ओर हत्या के बाद लड़कियों की सुरक्षा को लेकर अभिभावकों में चिंता

मुंबई। महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को काफी सुरक्षित माना जाता है लेकिन पिछले दिनों साकीनाका...