26 C
Mumbai
Wednesday, October 20, 2021

पिथौरागढ़ में कोरोना नहीं बल्कि तेंदुए के खौफ से 'नाइट कर्फ्यू' का ऐलान

पिथौरागढ़. सड़कों पर उतरने को मजबूर हो गए हेल्थ वर्करों ने शायद ही कभी सोचा होगा कि रातों-रात उनकी नौकरी चली जाएगी. कोरोना संकट के दौरान काम कर कोरोना वॉरियर कहलाने वाले कर्मचारियों की नौकरी हेल्थ डिपार्टमेंट ने एक झटके में खत्म कर दी. चुनाव में जबकि कुछ ही महीने बाकी हैं, तब उत्तराखंड सरकार के इस तरह के फैसले ने सबको चौंका ज़रूर दिया है और विपक्ष के हाथ बड़ा मुद्दा दे दिया है. साल में सैकड़ों लोगों को नौकरी से बाहर का रास्ता दिखाने पर सियासत भी तेज़ हो चुकी है जबकि सरकार को भरोसा है कि जल्द ही सभी को बहाल कर इस मुद्दे को संभाल लिया जाएगा.

असल में कोरोना की सेकेंड वेव में हेल्थ डिपार्टमेंट ने 284 लोगों को कॉंट्रेक्ट के तहत रखा था, जिनमें डॉक्टर, फार्मासिस्ट, नर्स और वॉर्ड बॉय शामिल हैं. लगातार 4 महीने तक काम करने पर भी इन्हें सैलरी तो नही मिली, लेकिन नौकरी से छुट्टी ज़रूर हो गई. ऐसे में सैकड़ों की संख्या में बेरोज़गार हुए युवाओं ने आंदोलन का रास्ता अख्तियार कर लिया है. जॉब से हटाईं गईं रेनू सामंत कहती हैं कि विभाग ने उनके साथ ‘मजाक किया. 4 महीनों तक मानदेय भी नहीं दिया गया.

ये भी पढ़ें : AAP का दावा, ‘सेल्फी विद टेंपल’ मुहिम से जुड़े हज़ारों उत्तराखंडी, जानिए इस अभियान की वजह

uttarakhand news, uttarakhand coronavirus, corona warriors, local news, uttarakhand health system, उत्तराखंड न्यूज़, उत्तराखंड में कोरोना, कोरोना योद्धा

अपनी मांगें प्रशासन के सामने रखते नौकरी से हटाए गए स्वास्थ्यकर्मी.

सिर्फ पिथौरागढ़ में ही हटाए गए हेल्थ वर्कर

सूबे के अन्य ज़िलों में हेल्थ वर्कर पहले की तरह काम कर रहे हैं लेकिन पिथौरागढ़ के हेल्थ वर्करों के साथ ही यह ज़्यादती की गई. कोराना संकट के बीच जिनकी सेवाएं ली गईं, उन कर्मियों को सीएम केयर फंड से सैलरी मिलनी थी, लेकिन यहां न तो 4 महीने की सैलरी मिल पाई और न ही नौकरी बची. वहीं, सरकार की मानें तो हटाए गए सभी हेल्थ वर्करों की बहाली के लिए युद्धस्तर पर कोशिशें जारी हैं.

क्या कह रहे हैं ज़िम्मेदार?

सीएमओ डॉ. एचसी पंत का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान स्थानीय स्तर पर तय समय के लिए इन हेल्थ वर्करों को अस्थायी तौर पर ही रखा गया था. जब कोरोना के मामले नहीं के बराबर हो गए हैं, तो इनका हटाया जाना जायज़ कदम है. वहीं, उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफाल का कहना है कि हटाए गए हेल्थ वर्करों को बहाल करने का रास्ता तलाशा जा रहा है.

Related Articles

कामराज नगर में पुनः झोपडा माफिया हुए सक्रिय

सरकारी जमीन पर रोज बनते है दर्जनों झोपड़े, सदाम मामू है झोपडा माफियाओ का सरगना मुंबई। घाटकोपर मनपा एन...

गोवंडी की झोपड़पट्टियो में अधिकांश संख्या में सीसीटीवी खराब या बंद होने से पुलिस की दिक्कतें बढ़ी

मुंबई। गोवंडी शिवाजीनगर विधानसभा की अनेक झोपड़पट्टियों में कुछ दिनों से सीसीटीवी कैमरे अधिकांश संख्या में बंद होने से रफीक नगर में...

वाडिया अस्पताल में निःशुल्क स्कोलियोसिस शिविर

मुंबई। बाई जेरबाई वाडिया अस्पताल में बच्चों की हड्डीओं की जाचं कराने के लिए दो दिवसीय चिकित्सा शिबीर का आयोजन किया गया।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

कामराज नगर में पुनः झोपडा माफिया हुए सक्रिय

सरकारी जमीन पर रोज बनते है दर्जनों झोपड़े, सदाम मामू है झोपडा माफियाओ का सरगना मुंबई। घाटकोपर मनपा एन...

गोवंडी की झोपड़पट्टियो में अधिकांश संख्या में सीसीटीवी खराब या बंद होने से पुलिस की दिक्कतें बढ़ी

मुंबई। गोवंडी शिवाजीनगर विधानसभा की अनेक झोपड़पट्टियों में कुछ दिनों से सीसीटीवी कैमरे अधिकांश संख्या में बंद होने से रफीक नगर में...

वाडिया अस्पताल में निःशुल्क स्कोलियोसिस शिविर

मुंबई। बाई जेरबाई वाडिया अस्पताल में बच्चों की हड्डीओं की जाचं कराने के लिए दो दिवसीय चिकित्सा शिबीर का आयोजन किया गया।...

बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमले को रूकवाने की पहल करें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मुंबई। पिछले दो दिनों से बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों और दुर्गा पंडालों में हमले हो रहे हैं। वहां की स्थिति  यह हो...

मुंबई उपनगरीय ताइक्वांडो चैम्पियनशिप 2021 का सफलतापूर्व  आयोजन

मुंबई। 20वीं मुंबई उपनगरीय ताइक्वांडो जिला स्तरीय प्रतियोगिता गत 15,16,17 अक्टूबर 2021 को धारावी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में आयोजित की गई थी।  प्रतियोगिता...