25 C
Mumbai
Sunday, December 5, 2021

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद UNSC आज करेगा आपात बैठक

न्यूयॉर्क. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) एस्टोनिया और नॉर्वे के अनुरोध पर अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) की स्थिति पर सोमवार को आपात बैठक करेगी. परिषद के राजनयिकों ने रविवार को कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio guterres) परिषद के सदस्यों को राजधानी काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद के ताजा हालात से अवगत कराएंगे. इससे पहले संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने इन शुरुआती संकेतों पर भी अफसोस जताया था कि तालिबान अपने नियंत्रण वाले इलाकों में विशेष रूप से महिलाओं और पत्रकारों को निशाना बनाकर कठोर पाबंदियां लगा रहा है.

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने साथ ही देश भर की प्रांतीय राजधानियों पर तेजी से कब्जा कर रहे तालिबान से तत्काल हमले रोकने की और अफगानिस्तान और उसके लोगों के हित में ‘ईमानदारी से बातचीत’ करने की अपील की थी. गुतारेस ने कहा था, ‘युद्ध के मार्ग पर चल रहे लोगों को अंतरराष्ट्रीय समुदाय का संकेत स्पष्ट है : सैन्य ताकत से सत्ता हासिल करना एक विफल कदम है. यह केवल लंबे समय तक गृहयुद्ध या अफगानिस्तान के पूर्ण अलगाव का कारण बनेगा.’

उधर, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी रविवार को देश छोड़कर चले गए. इसके साथ ही देशवासी और विदेशी भी युद्धग्रस्त देश से निकलने को प्रयासरत हैं, जो नये अफगानिस्तान के निर्माण के पश्चिमी देशों के 20 साल के प्रयोग की समाप्ति का संकेत है. दो अधिकारियों ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि गनी हवाई मार्ग से देश छोड़ कर गए. दोनों अधिकारी पत्रकारों को जानकारी देने के लिए अधिकृत नहीं थे. बाद में अफगान राष्ट्रीय सुलह परिषद के प्रमुख अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने इसकी पुष्टि की कि गनी देश से बाहर चले गए हैं. अब्दुल्ला ने कहा, ‘अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अफगानिस्तान को इस मुश्किल स्थिति में छोड़कर देश से चले गए हैं. अल्लाह उन्हें जवाबदेह ठहराएं.’

क्या थे तालिबान को लेकर अनुमान?

अफगानिस्तान में लगभग दो दशकों में सुरक्षा बलों को तैयार करने के लिए अमेरिका और नाटो द्वारा अरबों डॉलर खर्च किए जाने के बावजूद तालिबान ने आश्चर्यजनक रूप से एक सप्ताह में लगभग पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया. कुछ ही दिन पहले, एक अमेरिकी सैन्य आकलन ने अनुमान लगाया था कि राजधानी के तालिबान के दबाव में आने में एक महीना लगेगा.

काबुल का तालिबान के नियंत्रण में जाना अमेरिका के सबसे लंबे युद्ध के अंतिम अध्याय का प्रतीक है, जो 11 सितंबर, 2001 को अलकायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के षड्यंत्र वाले आतंकवादी हमलों के बाद शुरू हुआ था. ओसामा को तब तालिबान सरकार द्वारा आश्रय दिया गया था. एक अमेरिकी नेतृत्व वाले आक्रमण ने तालिबान को सत्ता से उखाड़ फेंका. हालांकि इराक युद्ध के चलते अमेरिका का इस युद्ध से ध्यान भंग हो गया.

अमेरिका वर्षों से, युद्ध से बाहर निकलने को प्रयासरत है. अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के नेतृत्व में वाशिंगटन ने फरवरी 2020 में तालिबान के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो विद्रोहियों के खिलाफ प्रत्यक्ष सैन्य कार्रवाई को सीमित करता है. इसने तालिबान को अपनी ताकत जुटाने और प्रमुख क्षेत्रों पर कब्जा करने के लिए तेजी से आगे बढ़ने की अनुमति दी. वहीं राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस महीने के अंत तक अफगानिस्तान से सभी अमेरिकी सैनिकों की वापसी की अपनी योजना की घोषणा की.

Related Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

75 वर्षीय बृद्धा का हत्यारा नातू गिरफ्तार

7 साल बाद पुलिस ने जाल में फंसाया मुंबई। पवई पुलिस की हद में 7 साल पहले हुई एक...

जीकेसी पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने मनायी डा. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती

पटना। ग्लोबल कायस्थ कॉन्फ्रेंस (जीकेसी) पटना जिला युवा प्रकोष्ठ ने भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की जयंती हर्षोल्लास...

इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य से विभूतियों को मिला डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान

पटना। इमेजिका वेलफेयर फाउंडेशन के सौजन्य भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती के अवसर पर डॉ राजेंद्र प्रसाद स्मृति सम्मान समारोह...

घाटकोपर में क्लीनअप मार्शल द्वारा गांधीगिरी, बिना मास्क के चलने वालों को मास्क व गुलाब देकर किया जनजागरूक

 मुंबई:घाटकोपर: विनामास्क के नागरिकों और सफाई कर्मियों के बीच विवाद अक्सर सामने आते रहे हैं। लेकिन आज घाटकोपर क्षेत्र में सफाई कर्मी...

ट्राम्बे के जाने माने समाजसेवक शब्बीर खान की घर वापसी

भाई जगताप और शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ की मौजूदगी में हुए कांग्रेस में शामिल मुंबई: आने वाले समय में...