28 C
Mumbai
Friday, July 23, 2021

मानसून के दौरान मालवणी जैसे और भी हो सकते हैं हादसे : मोतीभाई देसाई

मुंबई। भाजपा के वरिष्ठ नेता तथा उत्तर मुंबई जिला सचिव मोतीभाई देसाई ने आशंका जताई है कि मालाड के मालवणी में जैसी घटना मुंबई के कई और इलाकों में हो सकती हैं। इससे पहले भी मॉनसून में कुर्ला कुरैशी नगर, बेहराम बाग जैसे इलाकों में लोड बेरिंग पर खड़े झोपड़े या इमारतें गिरती रही हैं। इनमें लोग मरे भी, लेकिन ऐसी घटनाएं रोकने में बीएमसी प्रशासन या फिर राज्य सरकार अब तक बुरी तरह से असफल रही है। उन्होंने कहा कि जोगेश्वरी के बेहराम बाग, बांद्रा के बेहराम पाडा, कुर्ला के कुरेशी नगर, खाड़ी नंबर तीन, भांडुप के सोनापुर, शिवाजी नगर, मानखुर्द के मंडाला, नागपाडा जैसे कई इलाके हैं, जहां तीन से छह मंजिला तक झोपड़े लोड-बेरिंग पर खड़े किए गए हैं। कई जगहों पर आज भी बदस्तूर लोड बेरिंग से झोपड़ों की ऊंचाई बढ़ाई जा रही है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। तर्क दिया जा रहा है कि मॉनसून में बीएमसी तोड़क कार्रवाई नहीं करती।

उन्होंने कहा कि मॉनसून के अलावा, दूसरे मौसम में जब भी गैरकानूनी निर्माण कार्य की शिकायत बीएमसी या कलेक्टर के पास आती है, तब तोड़क कार्रवाई के लिए जाते हैं। लेकिन, अक्सर स्थानीय नेता निर्माण के बचाव में आ जाते हैं। कुछ साल पहले मंडाला में तोड़क कार्रवाई करने गई बीएमसी की टीम पर पथराव कर दिया गया था। कर्मचारी भाग गए थे। उस तोड़क कार्रवाई का बचाव सभी राजनीतिक दलों ने किया था, बल्कि बीएमसी वॉर्ड पर मोर्चा भी निकाला था, जिससे कार्रवाई रोकनी पड़ी। आज भी वहां तोड़क कार्रवाई नहीं की जा सकी। कुर्ला एल वॉर्ड के ठीक सामने ही सात्पे चॉल में गैरकानूनी निर्माण कार्य तेज बारिश में भी जारी है, जिस पर बीएमसी तोड़क कार्रवाई नहीं कर पा रही है। सूत्रों का कहना है कि निर्माण कार्य को सत्ताधारी दल आर्शिवाद मिला है।

वरिष्ठ भाजपा नेता मोतीभाई देसाई ने बताया कि मालवणी के गैरकानूनी निर्माण कार्य की लिखित शिकायत बीजेपी के नगरसेवक विनोद मिश्र ने 29 मई 2019 को उप जिलाधिकारी से की थी। मिश्रा के बाद पी-उत्तर वॉर्ड के सहायक अभियंता ने भी उप जिलाधिकारी से कार्रवाई करने के लिए कहा था, लेकिन कलेक्टर की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की गई। वहीं दूसरी ओर मालाड के कांग्रेसी विधायक तथा महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री असलम शेख का कहना है कि देखा जाए, तो आधी मुंबई ही अवैध है। मुंबई में हर जगह अवैध निर्माण हुआ है।

गांवठान, कोलीवाडा या फिर कलेक्टर, म्हाडा की जमीन पर बसे झोपड़ों की ऊंचाई बढ़ाई गई है। उन झोपड़ों में रहने वाले व्यक्ति का परिवार जब बढ़ता है, तब वह झोपड़े की ऊंचाई बढ़ाता है। पिछली बीजेपी की सरकार ने ही झोपड़ों की ऊंचाई एक-दो मंजिला करने के लिए आवाज उठाई थी और अब जब उनकी सरकार चली गई, तो उन्हें गैरकानूनी निर्माण कार्य नजर आ रहा है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,042FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर नायक रहे लोकमान्य तिलक : प्रेम शुक्ल

मुंबई। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अमर नायक रहे। अंग्रेजो के खिलाफ उनका नारा–स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है ,और...

अजीत पवार के जन्मदिन पर रक्तदान एवं चिकित्सा शिविर का आयोजन

मुंबई। महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के जन्मदिन के उपलक्ष्य में राकांपा नेता एवं सांसद सुप्रिया सुले के निर्देश तथा महाराष्ट्र की...