पश्चिम रेलवे द्वारा परिचालित यह दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस

मुंबई। भारतीय रेलवे लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन के त्वरित परिवहन के द्वारा कोविड संक्रमण के उपचार के लिए ऑक्‍सीजन की उपलब्धता मिशन मोड में सुनिश्चित कर रही  है। इस से ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस ट्रेनों के परिचालन के जरिये पूरे देश में ऑक्‍सीजन की सख्त जरूरत वाले कोविड-19 मरीजों को मेडिकल ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध कराना सुनिश्चित हो रहा है। इसी दिशा में, पश्चिम रेलवे द्वारा विभिन्‍न राज्‍यों को जीवन-रक्षक ऑक्‍सीजन के परिवहन करने के साथ-साथ कोविड-19 के विरुद्ध संयुक्त संघर्ष को शक्ति प्रदान करने के लिए गुजरात के हापा से हरियाणा के गुरुग्राम के लिए लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन (LMO) से लदी दूसरी ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस का परिचालन किया गया है। 

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन (LMO) के चार 4 टैंकर वाली एक रो-रो  (RO-RO) सेवा  3 मई, 2021 को 6:37 बजे गुजरात के हापा से रवाना हुई , जो 4 मई, 2021 की सुबह हरियाणा के गुरुग्राम पहुँचेगी। यह ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस लगभग 85.23 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन ले जा रही है तथा अपने गंतव्‍य तक पहुँचने में 1088 किमी की दूरी तय करेगी। इन ऑक्सीजन टैंकरों से सप्लाय की जाने वाली ऑक्सिजन को दिल्ली तथा आस पास के क्षेत्रों में कोविड केयर हॉस्पिटल्स में मरीजों के उपयोग के लिए ले जाया जाएगा। यह ट्रेन वांकानेर, सुरेंद्रनगर, वीरमगाम, मेहसाणा, पालनपुर, मारवाड़ जंक्शन, अजमेर, फालना, रिंगस और रेवाड़ी के रास्ते चलाई जा रही है।  लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति मेसर्स रिलायंस इंडस्ट्रीज,जामनगर द्वारा अधिक क्षमता वाले ट्रेलरों में की गई है।

श्री ठाकुर ने आगे बताया कि हापा गुड्स शेड में वैगनों पर ऑक्सीजन टैंकरों को सुचारू रूप से लोड करने के लिए आवश्यक व्यवस्था उपलब्ध है।  हाल ही में, 25 अप्रैल, 2021 को, पश्चिम रेलवे ने गुजरात के हापा से महाराष्ट्र के कलंबोली तक लगभग 44 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) का परिवहन किया था। कलंबोली तक कम से कम संभव समय में इसका परिवहन सुनिश्चित करने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस को निर्बाध पथ प्रदान करते हुए 50 किलो मीटर प्रति घंटा की गति से चलाया गया था। 

इस महामारी के दौरान भारतीय रेलवे समस्‍त चुनौतियों का डटकर सामना कर रही है और हरसंभव तरीके से देश की सेवा कर रही है। फिर चाहे पिछले वर्ष लॉकडाउन के दौरान आवश्‍यक वस्‍तुओं, दवाइयों, चिकित्‍सा संबंधी उपस्‍करों आदि की आपूर्ति के लिए विशेष पार्सल ट्रेनों का परिचालन हो या किसान रेलों के द्वारा किसानों की सहायता करना हो या अब ऑक्‍सीजन एक्‍सप्रेस ट्रेनों के ज़रिये ऑक्‍सीजन का परिवहन हो। इस क्रम में 2 मई, 2021 तक भारतीय रेल द्वारा विभिन्न राज्‍यों जैसे महाराष्‍ट्र (174 MT), उत्‍तर प्रदेश (430.51MT), मध्‍य प्रदेश (156.96 MT), दिल्‍ली (190 MT), हरियाणा (79 MT) एवं तेलंगाना (63.6 MT) को 1094 मीट्रिक टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन (LMO) की सुपुर्दगी की जा चुकी है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here